पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों की होती है ऐसे शादी!

नई दिल्ली(13 अगस्त): पाकिस्तान में हिंदू अल्पसंख्यक हैं और उनके साथ कैसा व्यवहार होता है ये किसी छिपा नहीं है।  20 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान में 10 फीसदी गैर मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं। गुरुवार को पाकिस्तान में अल्पसंख्यक दिवस मनाया गया। इस मौके पर पाकिस्तान के हर शहर में हिंदू आबादी सड़कों पर उतर आई। और खुद पर हो रहीं ज्यादतियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने लगी।

- पाकिस्तान में इन दिनों हिंदुओं का गुस्सा उबाल पर है। इस गुस्से के केंद्र बिंदु में हैं पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के पूर्व सांसद पीर अब्दुल हक। जिन्हें पाकिस्तान में मियां मिट्ठू के नाम से भी जाना जाता है। माना जाता है कि पाकिस्तान में हिंदुओं के धर्म परिवर्तन का ठेका इन्ही मियां मिट्ठू ने उठाया हुआ है। मियां मिट्ठू को हिंदुओं और खासकर हिंदू लड़कियों का अपहरण करवाकर उनका जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने में महारत हासिल है। उनके खिलाफ 117 मामले दर्ज हैं।

- पाकिस्तान में नर्क भोग रहे हिंदुओं की आवाज़ है। जिसे दबाने में पाकिस्तान जरा भी नहीं हिचकता। पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के मेंबर और सत्ताधारी पार्टी के सांसद डॉक्टर रमेश कुमार वांकवानी पाकिस्तान में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार पर पाकिस्तानी संसद को कई बार नींद से जगाने की कोशिश कर चुके हैं। '

- पूरी दुनिया पाकिस्तान के हिंदू विरोधी चरित्र को पहचानती है लेकिन पाकिस्तान की सड़कों पर हिंदुओं का ये गुस्सा इसलिए भड़का है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में हिंदुओं पर हमले की घटनाएं बढ़ गईं हैं। कराची में एक हिंदू लड़के सतीश का कत्ल और एक हिंदू डॉक्टर को गोली मारने की घटनाओं ने हिंदुओं को बगावत करने पर मजबूर कर दिया है।

-मियां मिट्ठू जैसे लोग कैसे पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवा रहे हैं। उसकी असलियत खुद वहां की मीडिया दुनिया के सामने लाती आई है। पाकिस्तान में हिंदू होना और उसपर भी हिंदू लड़की होना कितना बड़ा खतरा है, ये किसी से छिपा नहीं है। पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार नजम सेठी ने एक निजी चैनल से बात करते हुए बताया की अगर मुल्ला का बस चले तो ये जानवरों को भी इस्लाम कुबूल करवा दें। इनकी कट्टरता की वजह से ही पाकिस्तान पूरी दुनिया में बदनाम हो रहा है।

-पाकिस्तान में हिंदू होना कितना बड़ा गुनाह है, इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि हर साल पाकिस्तान में 300 हिंदू लड़कियों का अपहरण कर लिया जाता है। पाकिस्तान की संस्था 'Movement For Solidarity And Peace' की रिपोर्ट के मुताबिक अगवा होने वाली ज्यादातर हिंदू लड़कियों की उम्र सिर्फ 12 से 15 साल होती हैं। रिपोर्ट के मुताबिक अपहरण करने के बाद हिंदू लड़कियों की जबरदस्ती शादी करवाकर उनसे इस्लाम कबूल करवाया जाता है।