पाक के गृह मंत्री ने भारत के इन संगठनों को बताया दोनों देशों के रिश्तों के बीच बड़ी बाधा

नई दिल्ली (21 जून) :  पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री चौधरी निसार अली खान बड़बोले बयानों के लिए जाने जाते हैं। खान ने अब एक बयान में कहा है कि 'हिंदू चरमपंथी संगठन' भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्ते सामान्य होने की राह में सबसे बड़े अवरोधक हैं। खान ने इन संगठनों में आरएसएस, शिवसेना और अभिनव भारत के नाम गिनाए।

खान ने सोमवार को एक बयान में कहा कि इस तरह के संगठनों का भारत सरकार पर बहुत प्रभाव है। खान ने भारत की विदेश मत्री सुषमा स्वराज के भारत-पाक रिश्तों पर दिए बयान पर भी हैरानी जताई। सुषमा स्वराज ने हाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों के बीच अच्छे संबंध हैं जिनसे जटिल मुद्दों को सुलझाया जा सकता है लेकिन कुछ ताकतें नहीं चाहतीं कि दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य हों।

खान ने कहा कि अगर वे इस्लामाबाद के साथ बेहतर रिश्ते बनाने के लिए गंभीर हैं तो उन्हें पहेलियां नहीं बुझानी चाहिए बल्कि साफ तौर पर बताना चाहिए कि कौन सी ताकतें नहीं चाहतीं कि भारत और पाकिस्तान के बीच अच्छे रिश्ते कायम हों।

खान ने सुषमा स्वराज के इस दावे पर भी सवाल उठाया कि नई दिल्ली दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य करने के लिए गंभीर है। खान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूएस कांग्रेस में हालिया भाषण ने उनकी पाकिस्तान से कथित दोस्ती की उनकी नीति को उजागर कर दिया।