#News24 Exclusive: इतना ज्यादा जहरीला हैं हिंडन का पानी

पारस जैन, वरुण सिन्हा, गाजियाबाद (29 अगस्त): हिंडन के पास बसे जिस भी गांव और शहर में न्यूज़ 24 की टीम पहुंची सब जगह कमोबेश एक जैसे हालात थे। पहली नज़र में ही देखकर साफ हो जाता है कि हिंडन में प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा है, लेकिन क्या प्रदूषण का स्तर इतना हो चुका है कि हिंडन का पानी पीने लायक या फिर इस्तेमाल के लायक नहीं बचा है। ये जांचने के लिए हमने 3 जगहों से हिंडन के सैंपल्स लिए और लैब में उनकी जांच करवाई। जो नतीजे सामने आए वो डराने वाले थे।

हिंडन जिन शहरों और गांव से गुज़रती हैं वहां इस नदी में शूगर मिलों और अन्य औद्योगिक इकाइयों का केमिकल वाला पानी गिरता है, जिसकी वजह से नदी का पानी प्रदूषित होने के साथ ही नदी के किनारे बसे शहरों और गांव में भूजल स्तर भी ख़तरनाक रूप से प्रदूषित होता जा रहा है।

हिंडन किनारे बसे गांव और शहरों की हालत देखने के बाद हमारे भी ज़हन में भी तमाम सवाल घूम रहे थे। लिहाज़ा हमने इन सवालों के पुख्ता जवाब हासिल करने के लिए हिंडन के इस पानी की टेस्टिंग का फैसला किया। हमने अलग-अलग जगहों से हिंडन के पानी के सैंपल्स लिए।

सैंपल्स इक्ट्ठा करने के लिए हमने सबसे पहले रुख किया बागपत का। न्यूज 24 संवाददाता वूरूण सिन्हा ने बागपत में एक बोतल में हिंडन का पानी भरा। हम केवल एक ही जगह के सैंपल को जांचना नहीं चाहते थे, लिहाज़ा बागपत के बाद हमने रूख किया मेरठ का। मेरठ से सैंपल लेने के बाद लेने के बाद हम्हे अब ग़ाज़ियाबाद की तरफ निकलने का फैसला किया, यहां कहा जाता हैं कि हिंडन सबसे बत्तर हालात में है।

तमाम जगहों से हिंडन नदी के सैंपल्स को लेने के बाद इन्हें टेस्ट कराने के लिए हम नॉएडा की its लैब पहुंचे। हिंडन के तीनों सैंपल्स को हमने लैब में सौंप दिया। हमें बताया गया कि सैंपल्स के टेस्ट के नतीजे आने में करीब 4 दिन का समय लगेगा। 4 दिन के बाद सैंपल्स के नतीजे हमारे सामने थे। सैंपल्स की रिपोर्ट जो बाते हमारे सामने आई उन्हें देख कर हमारी आंखे फटी की फटी रह गई हैं, क्योंकि हिंडन का पानी कई पैमानों पर फेल हुआ।

पैमाना                 रिपोर्ट में वैल्यू         क्या है लिमिट

कलर                   24                      10

टोटल हार्डनेस          472                    300

टोटल डिसॉल्व्ड सॉलिड  1365             500

टोटल कॉली फॉर्म          2862               50

इस रिपोर्ट में सबसे ज्यादा ख़तरनाक मात्रा जिस तत्व की पाई गई वो है टोटल कॉली फॉर्म। इसकी वजह से कैंसर समेत कई ख़तरनाक बीमारियां होती हैं। टेस्ट रिपोर्ट के नतीजों ने ये साफ कर दिया कि पीना तो दूर ये हिंडन का मौजूदा पानी किसी भी इस्तेमाल के लायक नहीं है। टेस्ट रिपोर्ट साफ बता रहा है कि हिंडन का पानी इंसानी इस्तेमाल के लायक नहीं है, लेकिन लाखों लोग आज भी इस ज़हरीले पानी का इस्तेमाल कर रहे हैं।