पहाड़ों पर आफत की बर्फबारी,शिमला में 24 घंटे में गिरी डेढ़ फीट बर्फ

शिमला (7 जनवरी): इन दिनों उत्तरी भारत के पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी हो रही है। पिछले कई दिनों हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और कश्मीर में से लगातार बर्फबारी हो रही है. इससे से पूरा इलाका सफेद चादरों में सिमट गया है। 

तमाम पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी की वजह से जन जीवन बेहाल है। वहीं मैदानी इलाकों में हो रही बारिश ने लोगों को मुश्किल में डाल दिया है। कई इलाकों में तापमान का पारा शून्य से नीचे यानी माइनस में चला गया है।

शिमला में 24 घंटे के अंदर डेढ़ फीट से ज्यादा बर्फ गिर चुकी है। शहर में यह सीजन की पहली भारी बर्फबारी है। इसकी वजह से आसपास के इलाकों में कई टूरिस्ट फंस गए हैं। शिमला में शनिवार सुबह तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

- शिमला और किन्नौर में सीजन की पहली भारी बर्फबारी हुई। इससे ट्रैफिक, टेलिकम्युनिकेशन और बिजली-पानी की सप्लाई पर बुरा असर पड़ा।

- शिमला में शनिवार दोपहर तक 40 सेंटीमीटर बर्फ गिरी। शहर के आसपास मौजूद टूरिस्ट रिजॉर्ट्स कुफ्री, फागू और नारकंडा में 45-55 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई।

- इलाके में सड़कों पर जाम लगने और कई रास्ते बंद होने के बाद बड़ी तादाद में टूरिस्ट फंस गए।

- शिमला से 13 किलोमीटर दूर शोगली में ट्रैफिक पूरी तरह थम गया। शनिवार को मिनिमम टेम्परेचर 0.2 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया।

- इलाके में बर्फबारी और बारिश की वजह से सूखे के हालात भी सुधरे हैं। मौसम में आई नमी सेब और रबी की फसल के लिए बहुत फायदेमंद है।

- कुल्लू-मनाली के बीच रोड पर फिसलन की वजह से गाड़ियों की आवाजाही बंद कर दी गई। करीब 30 सरकारी बसें अलग-अलग जगहों पर फंसी हैं।

- रोहतांग पास और उसके आसपास का 60 सेमी मोटी बर्फ की पर्त जम गई।