इस प्रदेश में तम्बाकू उत्पादों की दुकानों के लिए 'लाइसेंस' होगा अनिवार्य

नई दिल्ली (17 फरवरी): हिमाचल प्रदेश ने राज्य में तंबाकू उत्पादों की बिक्री के लिए सभी दुकानों के लिए लाइसेंस को अनिवार्य कर दिया है। इनमें सिगरेट्स भी शामिल हैं। एक अधिकारी ने बुधवार को इसकी जानकारी दी।

'बिजनेस स्टैंडर्ड' की रिपोर्ट के मुताबिक, एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया, "मंगलवार को कैबिनेट ने अपनी मीटिंग में तंबाकू उत्पादों के रीटेलर्स के रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य बनाने का फैसला किया है। इसके अलावा लूज़ सिगरेट्स और बीड़ी की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का भी फैसला किया है।"

कैबिनेट ने सभी तंबाकू उत्पादों के रीटेलर्स के लिए लाइसेंसिंग अनिवार्य की है। पिछले महीने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने स्वास्थ्य विभाग को तंबाकू उत्पादों के रीटेलर्स के रजिस्ट्रेशन के लिए कानून का प्रारूप बनाने के लिए कहा था। जिसके बाद सिगरेट और बीड़ी बेचने वाले करीब 200 विक्रेताओं ने शिमला में विरोध किया था।

यह कानून विधानसभा में बजट सत्र के दौरान पेश किया जा सकता है। जो कि 25 फरवरी से शुरू हो रहा है। वेंडर्स का कहना है कि सिगरेट बिक्री के लिए रजिस्ट्रेशन सिस्टम सरकारी पदाधिकारियों के बीच भ्रष्टाचार बढ़ाएगी। इसके अलावा उनकी रोजी रोटी पर भी असर डालेगा।