हिलेरी ने कहा- ट्रम्प लोगों को डरा रहे हैं, US में हर धर्म के लोगों को रहने का हक

नई दिल्ली(29 जुलाई):  अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन खुद को इस रोज़ बदलाव का सामना करती दुनिया में विश्वस्त साथी और आपस में बंटते जा रहे समाज में एकजुटता पैदा करने वाले शख्स के रूप में पेश किया और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी स्वीकार की। 

अपने भाषण में हिलेरी ने कहा-

चेल्सी, मुझे तुम्हारी मां होने पर गर्व है... मुझे उस महिला पर भी गर्व है, जो तुम बनी हो...

बिल, जो बातचीत 45 साल पहले लॉ लाइब्रेरी में हमने शुरू की थी, वह आज भी जारी है...

मंगलवार रात को मैं बहुत खुश थी, हमने होप (जगह का नाम) से आए शख्स बिल क्लिंटन को सुना, और फिर हमने 'मैन ऑफ होप' (उम्मीदों को जगाने वाला शख्स) बराक ओबामा को सुना...

अमेरिका इसलिए मजबूत है, क्योंकि बराक ओबामा ने उसका नेतृत्व किया, और मैं इसलिए बेहतर शख्स बन पाई, क्योंकि ओबामा मेरे मित्र हैं...

हमें यह फैसला करना होगा कि क्या हम लोग मिलकर काम करना चाहते हैं, ताकि हम एक साथ ऊंचा उठ सकें...

हमने पिछले हफ्ते डोनाल्ड ट्रंप का जवाब सुना था... वह हमें बांटना चाहते हैं... वह चाहते हैं कि हम मुस्तकबिल से डरें, और एक-दूसरे से डरें...

हम किसी धर्म पर पाबंदी नहीं लगाएंगे... हम हर अमेरिकन और अपने सहयोगियों के साथ मिलकर आतंकवाद को हराएंगे...

किसी को ऐसा नहीं कहने दें कि हमारा देश कमज़ोर है... हम कमज़ोर नहीं हैं...

किसी ऐसे शख्स का भरोसा न करें, जो कहता है, 'सिर्फ मैं हालात को ठीक कर सकता हूं...' जी हां, क्लीवलैंड में सचमुच यही कहा था डोनाल्ड ट्रंप ने...

अमेरिकन ऐसा कभी नहीं कहते, 'सिर्फ मैं हालात को ठीक कर सकता हूं...' अमेरिकन कहते हैं, 'हम मिलकर इसे ठीक करेंगे...'