देशभर में 13 हाइवे को रनवे में तब्दील करेगी सरकार

नई दिल्ली (2 जून): देश की 13 हाईवे को फाइटर प्लेन के रनवे के तौर पर इस्तेमाल की तैयारी कर ली गई है। केंद्र सरकार ने उन 13 हाईवे की पहचान कर ली है जिसे रनवे के तौर पर विकसित किया जाएगा। रक्षा मंत्रालय और सड़क एवं परिवहन मंत्रालय पहले चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 13 हाईवे को विकसित करने का फैसला किया है। इन हाईवे का इस्तेमाल जरुरत पड़ने या इमर्जेंसी होने पर  फाइटर प्लेन की लैंडिंग और टेकऑफ में किया जा सकेगा।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान और चीन सीमा पर जारी तनाव और सैन्य जरुरतों को ध्यान में रखकर भी इन हाईवे का चयन किया गया है। इसमें कश्मीर और राजस्थान के हाईवे शामिल है। यहां तक की प्राकृतिक आपदा या त्रासदी के दौरान भी इन हाईवे पर ट्रांसपोर्ट प्लेन को उतारा जा सकेगा।

असल में सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने रक्षा मंत्रालय को ऐसे 29 हाईवे की लिस्ट सौंपी थी जिसको रनवे के तौर पर विकसित किया जा सके। लेकिन रणनीतिक और सामरिक जरुरतों के आधार पर रक्षा मंत्रालय ने 13 हाईवे को रनवे के तौर पर विकसित करने की सहमति दे दी है। रक्षा मंत्रालय ने लंबाई, चौड़ाई, मजबूती समेत रनवे के लिए जरुरी स्पेसिफिकेशन भी सड़क एवं परिवहन मंत्रालय को भेजी है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो अगले तीन महीने में सड़क एवं परिवहन मंत्रालय इन हाईवे पर काम शुरु कर देगा। जिन 13 हाईवे का चयन किया गया है उनमें से 11 को NHAI और 2 को राज्य सरकारें डेवलप करेंगी।

इन हाईवे को रनवे बनाएगी सरकार...

1. बिजबेहरा- चिनार बाग

2. बनिहाल- श्रीनगर

3. फलोदी- जैसलमेर

4.बाड़मेर- जैसलमेर

5. द्वारका- मलिया

6. लखनउ-बलिया

7. लखनउ-आगरा एक्सप्रेसवे

8. खड़गपुर - बालासोर

9. खड़गपुर - क्योंझर

10.नेल्लोर - अंगोल

11. अंगोल - चिकलुरिपेट

12.चेन्नई - पॉन्डिचेरी

13. कोडिकाराई - रामनाथपुरम  एनएच 210