अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर के चलते आसमान छुएंगे सोने के दाम

नई दिल्ली (24 मार्च): चीन और अमेरिका के बीच छिड़े व्यापार युद्ध ने करंसी और कमोडिटी मार्कीट पर भी गहरा असर डाला है। ट्रेड वार से वैश्विक अर्थव्यवस्था और विकास दर सीधे प्रभावित होंगे। भारत पर तत्काल प्रभाव तो नहीं पड़ेगा, लेकिन इसके लंबे समय तक जारी रहने से दूरगामी प्रभाव पड़ेंगे। 

ट्रेड वॉर से करंसी और कमोडिटी मार्केट में भारी उठापटक हो रही है, जिसने सोने की चमक अचानक बढ़ा दी। गोल्ड रातोंरात एक महीने की ऊंचाई पर चला गया है। वहीं, एक हफ्ते पहले तक दबाव में रहनेवाले कच्चे तेल की चाल भी बदल गई है। 

मौजूदा हालात में मॉर्गन स्टैनली ने इस साल के अंत तक ब्रेंट की कीमत 75 डॉलर तक जाने की आशंका जताई है। पीपी जूलर्स के वाइस प्रेजिडेंट का कहना है कि शेयर मार्केट पर इस ट्रेड वॉर का नकारात्मक असर पड़ना तय है। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय निवेशक सुरक्षित निवेश के लिए गोल्ड की तरफ जाएंगे। तब गोल्ड जल्द ही 32,000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच सकता है। गोल्ड की कीमतों में बढ़ोतरी कब तक जारी रहेगी, यह कहना जल्दबाजी होगी। अब यह देखना है कि ट्रेड वॉर कहां तक जाता है और क्या रूप अख्तियार करता है।

अभी पहले अमेरिका ने अपनी आर्थिक नीतियों में संरक्षणवाद को बढ़ावा देना शुरू किया। उसने पहले 12 देशों के साथ उसने अपने टीपीपी (ट्रांस पैसिफिक पार्टनरशिप) करार को रद किया, उसके बाद स्टील और एल्यूमिनियम पर आयात शुल्क बढ़ाया। अब अमेरिका ने चीन से आयात पर 60 अरब डॉलर यानी 3910 अरब रुपये के टैरिफ की घोषणा की है।