'600 किमी प्रति रफ्तार से दौड़ेंगी भारतीय ट्रेन'

नई दिल्ली (5 मार्च): बस कुछ साल और...इसके बाद भारतीय रेल के इतिहास में क्रांति आयेगी। कम से कम 350 और अधिकतम 600 किलोमीटर प्रतिघण्टा की रफ्तार से भारत की ट्रेन दौड़ती नजर आयेंगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि देश में अत्यधिक तीव्र गति से चलने वाली ट्रेनों को शुरू करने के लिये रेल मंत्रालय 6 वैश्विक कंपनियों के साथ बातचीत कर रहा है और बातचीत काफी आगे बढ़ चुकी है। उन्होंने बताया कि ये ट्रेनें 600 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से चल सकती हैं।

उन्होंने कहा, 'हमने उन 6 वैश्विक कंपनियों से बातचीत की है जिनके पास वह टेक्नॉलजी है, जिससे ट्रेनें 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती हैं। उनके पास 600 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार की गाडियां भी हैं। हमने उन्हें बुलाया और हमने उनसे कहा कि हम इसका विकास आपके साथ करेंगे।' प्रभु ने कहा, 'छह कंपनियां आगे आई हैं और बातचीत अग्रिम अवस्था में है। अगर वे इस प्रकार की तीव्र गति वाली ट्रेनों का विनिर्माण कर सके तो देश उसकी संभावना पर भी गौर करेगा।'

उद्योग मंडल सीआईआई द्वारा आयोजित तमिलनाडु बिजनस लीडर्स कॉन्फ्रेंस में भाग लेने चेन्नै पहुंचे रेलमंत्री ने कहा, 'यह 10 साल में हो सकता है। ये नये क्षेत्र हैं जिस पर हम काम कर रहे हैं।' उच्च गति की ट्रेनों की शुरुआत के बारे में उन्होंने कहा, 'जापानी कंपनियां उच्च गति की ट्रेनों पर करीब एक लाख करोड़ रुपये निवेश कर रही हैं।'

रेल मंत्रालय के निवेश के बारे में पूछे जाने पर प्रभु ने कहा, '8.50 लाख करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्ताव है। इसके अलावा हम 85,000 करोड़ रुपये माल गाड़ियों के लिये अलग से निवेश कर रहे हैं। हमें इसके 2019 में पूरा होने की उम्मीद है। पिछले दो साल में अनुबंध जारी किये गये हैं, निविदाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है।'