GB रोड सेक्स रैकेट में हुआ एक नया बड़ा खुलासा

नई दिल्ली (31 अगस्त): दिल्ली सेक्स रैकेट में पकड़ा गया आफाक और उसकी पत्नी के बारे में रोजाना नए-नए खुलासे हो रहे हैं। मुरादाबाद के उझारी का रहने वाला आफाक के गांववालों को मालूम नहीं था कि खुद को प्रापर्टी डीलर बताने वाला वास्तव में इंटरनेशनल सेक्स रैकेट का संचालक है और खुद एक कोठे वाली को ब्याह लाया है।

पत्नी सायरा बेगम की हकीकत से पर्दा ने उठे इसके लिए आफाक ने अपने गांव में यही फैला रखा था कि उसने शादी ही नहीं की है। लेकिन उसकी गिरफ्तारी ने उसके सारे कच्चे चिट्ठे को खोलकर रख दिया। आफाक बाकरी को बेशक पूरा इलाका मालदार लोगों में गिनने लगा हो, लेकिन उसे अपनी हकीकत पता थी। उसे पता था कि पत्नी को समाज के सामने लाया तो लोग सायरा का घर पता पूछेंगे और फिर धीरे-धीरे उसकी बात खुल जाएगी।

दरअसल आफाक ने सेक्स की मंडी में पत्नी सायरा के जरिए ही कदम जमाए थे। इसके बाद वह इस गंदे धंधे में इतना तेज रफ्तार से दौड़ा कि जीबी रोड के ज्यादातर कोठों पर उसी का कब्जा हो गया।

खुद को प्रोपर्टी डीलर बताता था आफाक... पत्नी सायरा बेगम के साथ मिलकर ही उसने पांच हजार से भी गरीब मजबूर लड़कियों को ‘नरक’ में धकेला था। पुलिस पूछताछ में साफ हो चुका है कि आफाक और सायरा अभी तक पांच हजार से भी अधिक लड़कियों को कोठों पर बेच चुके हैं। दिल्ली में जिस्मफरोशी के धंधे से अकूत दौलत कमा चुका आफाक अपने गांव और आसपास के इलाके में खुद को प्रापर्टी डीलर बताता था।

संभल रोड पर हसनपुर से करीब दस किमी दूर है उझारी नगर पंचायत। सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर का गांव भी यही है। सड़क के दोनों ओर बसा यह गांव मुस्लिम बहुल है और शियाओं की भी यहां अच्छी खासी तादाद है। इसी गांव में एक गरीब घर में पैदा हुआ आफाक बाकरी पुत्र इकबाल हुसैन करीब 25 साल पहले रोजी रोटी की तलाश में गांव छोड़कर दिल्ली चला गया था। वहां उसने सेक्स रैकेट चलाना शुरू किया और पत्नी सायरा बेगम के साथ मिलकर इस रैकेट को दिल्ली एनसीआर के साथ ही नेपाल और कई अन्य छोटे-मोटे मुल्कों में भी फैला दिया।