उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को छह महीने की अंतरिम जमानत

नई दिल्ली (18 मार्च):  देशद्रोह के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य की आज पटियाला हाउस कोर्ट ने अंतरिम जमानत दे दी है। अपने आदेश में कोर्ट ने दोनों को छह महीने की जमानत और 25,000 रुपये का बेल बॉंड भरने का आदेश दिया है। इससे पहले 16 मार्च को कोर्ट ने अपना फैसला आज के लिए सुरक्षित रख लिया था।

पिछली सुनवाई के दौरान खालिद और अर्निबान के एडवोकेट ने कोर्ट में दलील दी कि नागरिकों को सरकार के क्रिटिसिज्म करने का राइट हासिल है। सरकार के क्रिटिसिज्म को देशद्रोह के तौर पर नहीं देखा जा सकता। बचाव पक्ष के वकील का कहना है कि ने कहा कि दोनों ने सरेंडर किया था और हाईकोर्ट ने इसे रिकॉर्ड पर लिया है। दिल्ली सरकार की रिपोर्ट का हवाला देते हुए वकील ने कहा कि सरकार की रिपोर्ट में भी कहा गया है कि वीडियो से छेड़छाड़ हुई।  वकील ने कहा कि जेएनयू में बाहर के लोग मौजूद थे, जिन लोगों ने नारे लगाए उनकी पहचान अभी तक नहीं हो पाई है।

दिल्ली पुलिस ने किया जमानत का विरोध करते हुए कोर्ट में कहना था कि आरोप बहुत सीरियस हैं क्योंकि वे दोनों कैंपस में हुए प्रोग्राम के चीफ ऑर्गेनाइजर थे। पुलिस के वकील ने कहा कि इन दोनों के खिलाफ हम सिर्फ किसी वीडियो पर ही डिपेंड नहीं है बल्कि हमारे पास इन दोनों के खिलाफ 10 इंडिपेंडेंट गवाहों के बयान भी दिए हैं।