Labor Pain For Men : यहां मर्द महसूस करते हैं मां बनने का दर्द

नई दिल्ली (3 अगस्त) : माँ बनने का अहसास किसी भी महिला के लिए अनोखा होता है। इसके लिए उन्हें जो दर्द सहना पड़ता है, वो संतान का मुंह देखने की खुशी के आगे कुछ भी नहीं होती। महिलाओं को मां बनते वक्त जो दर्द होता है, उसका पुरुष अंदाज नहीं लगा सकते। लेकिन चीन में एक अस्पताल ऐसा भी है जो पुरुषों को अहसास कराता है कि महिलाओं को ऐसे वक्त पर किस दर्द से गुजरना होता है।

चीन का ये अस्पताल दो साल से यही काम कर रहा है। ये पुरुषों को लेबर पेन ऑफर करता है। पूर्वी चीन के शैनडॉन्ग प्रांत के आइमा अस्पताल में पुरुषों को यह दर्द मुफ्त में दिया जा रहा है। इसलिए हफ्ते में दो सेशन होते हैं।

अस्पताल में दर्द नापने का मीटर का लगा है। एक शख्स ने बताया, "जैसे ही मीटर की सुई आगे बढ़ी मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरा चेहरा तन गया। ऐसा महसूस हुआ कि मेरा दिल और फेफड़े अलग हो जाएंगे।" इस शख्स ने यह तकलीफ सातवें लेवल तक झेली, इसके बाद उसने हाथ हिलाया तो नर्स ने दर्द देने वाला सिस्टम बंद कर दिया।

कई लोगों ने तो मशीन के ऑन होते ही हाथ हिला दिए। वे दर्द की शुरुआत भी बर्दाश्त नहीं कर सके। आर्टिफिशल लेबर पेन देने वाली नर्स का कहना है कि इस सिम्युलेशन के जरिए असली दर्द की तीव्रता का सटीक अहसास नहीं करवाया जा सकता। इसके बावजूद पुरुष अगर इसे महसूस करते हैं तो वे अपनी पत्नी की ज्यादा देखभाल व प्यार करेंगे।

पुरुषों को आर्टिफिशल लेबर पेन देने के लिए एक पैड उनकी कमर के निचले हिस्से में चिपकाया जाता है। यह पैड इलेक्ट्रोड्स से जुड़ा होता है। इलेक्ट्रोड्स के जरिए पैड में नियंत्रित करंट पास किया जाता है, जिससे व्यक्ति को दर्द का अहसास होता है। करंट का लेवल कम ज्यादा करके दर्द को बढ़ाया व घटाया जाता है।

 

असल में कितनी तकलीफ पहले बच्चे में दर्द की अवधि 12-14 घंटे व दूसरे में 4-6 छह घंटे तक होती है। इस दौरान दर्द के साइकल उठते हैं। दुनिया के किसी भी दर्द से इसकी तीव्रता ज्यादा होती है। अगर आपके शरीर की सारी हड्डियां भी टूट जाएं तो भी लेबर पेन की तीव्रता का अहसास नहीं कर सकते।