दक्षिण भारत में 'ओखी' का कहर, 8 की मौत

नई दिल्ली(1 दिसंबर): चक्रवात ‘ओखी’ ने दक्षिण भारत में 8 लोगों की जान ले ली है। तमिलनाडु और केरल सरकार ने चक्रवात को देखते हुए आधिकारिक मशीनरी को हाई अलर्ट पर रखा है। 

- इस चक्रवात के कन्याकुमारी से 60 किलोमीटर दक्षिण में रहने के समय अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अंदेशा जताया गया था। यह चक्रवाती तूफान लक्षद्वीप की ओर बढ़ रहा है और यह दो दिसंबर तक यहां पहुंच जाएगा। 

- भारतीय मौसम विज्ञान की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार 65-75 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवा चल रही है और दक्षिणी केरल में अगले 48 घंटों और दक्षिणी तमिलनाडु में 24 घंटों के भीतर इसके 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंचने की संभावना है। 

- दिल्ली में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में सचिव माधवन राजीवन ने कहा कि शुक्रवार को लक्षद्वीप में मूसलाधार बारिश हो सकती है और तेज हवाएं चल सकती हैं। उन्होंने कहा कि यह चक्रवात दो दिसंबर को लक्षद्वीप समूह पर पहुंच जाएगा। तमिलनाडु की सरकार ने राज्य और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमों को कन्याकुमारी जिले में तैनात किया है। इस जिले में बुधवार रात से ही मूसलाधार बारिश हो रही है। वहीं, मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने का निर्देश दिया गया है।

- मौसम विभाग के मुताबिक यह चक्रवात केरल तमिलनाडु की मुख्य भूमि को हिट नहीं कर रहा है। इसके उलट यह लक्षद्वीप की तरफ रुख कर रहा है। लक्षद्वीप में लोगों को सावधान रहने को कहा गया है। साइक्लोन सेंटर के मुताबिक दक्षिण केरल और दक्षिण तमिलनाडु के तटीय इलाकों में 65 से लेकर 75 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं अगले 24 से 48 घंटे तक चलती रहेंगी लिहाजा लोगों को समंदर के तट से दूर रहने की चेतावनी दी गई है।