देश के कई राज्यों में बाढ़-बारिश से हाहाकार, 100 से ज्यादा की मौत

नई दिल्ली ( 27 जुलाई ): गुजरात, राजस्थान, ओडिशा समेत देश के कई राज्य तेज बारिश और बाढ़ की चपेट में हैं। गुजरात और राजस्थान में लोग जलमग्न इलाकों में फंसे हुए हैं, वहीं देश के दूसरे हिस्सों में भी तेज बारिश और बाढ़ की वजह से आम जनजीवन प्रभावित है। गुजरात में अबतक 111 लोगों की मौत हो चुकी है। हालात गंभीर बने हुए हैं, जिसके मद्देनजर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को अपने आवास पर एक बैठक बुलाई। इसमें उन्होंने एनडीआरएफ के अधिकारियों से बातचीत करके बाढ़ के हालात की समीक्षा की। उधर, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बाढ़ में हुई मौतों पर दुख जताया। इससे पहले, पीएम नरेंद्र मोदी ने भी गुजरात के बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई दौरा किया था। गांधीनगर में 6 घंटे में 8 इंच बारिश और अहमदाबाद में 5 घंटे में 7 इंच बारिश हुई है।

राजस्थान के बाढ़ प्रभावित जालौर, सिरोही और पाली जिले में राहत और बचाव कार्य जारी है। राज्य में तेज बारिश की वजह से बुधवार को छह लोगों के मारे जाने की खबर है। इनमें दो बच्चे भी शामिल हैं। इसके अलावा, राजस्थान के बारिश प्रभावित इलाकों से बुधवार को 100 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया।

गुजरात के कई इलाके मसलन, बनासकांठा, पाटन, साबरकांठा जैसे जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं। अबतक बाढ़ की चपेट में आकर 111 लोगों की मौत हो गई है। बुधवार को बनासकांठा के रूनी गांव में बाढ़ का पानी उतरने पर 15 लोगों के शव उतराये हुए मिले। सूत्रों के मुताबिक सभी मृतक एक ही घर के हैं। 

बीते 12 घंटों में बारिश न होने की वजह से उत्तरी ओडिशा की प्रमुख नदियों के जलस्तर में कमी आ रही है, लेकिन भद्रक, जाजपुर, बालोसोर और आसपास के जिलों के कई गांव अब भी जलमग्न हैं।

पश्चिम बंगाल का बीरभूम, पुरूलिया, पश्चिमी मिदनापुर और हुगली जिले तेज बारिश की चपेट में हैं। मंगलवार को कोलकाता में सड़कों पर जलजमाव की स्थिति बनी हुई।