तकनीकी खामी के कारण हेडली पर नहीं हो सकी तीसरे दिन की सुनवाई

मुंबई (10 फरवरी): वीडियो कॉन्फ्रेंस में तकनीकी गड़बड़ी के कारण पाकिस्तानी अमेरिकी आतंकवादी डेविड कोलमैन हेडली के तीसरे दिन की गवाही नहीं हो सकी। हेडली 26/11 आतंकवादी हमले के मामले में मुंबई की एक अदालत में हेडली की गवाही चल रही है।

इससे पहले दो दिन की गवाही में हेडली की बातों में पाकिस्तान पूरी तरह से घिर गया है। दुनिया के सामने उसकी पोल खुल गई है। अभी तक सिर्फ लश्कर की साज़िश का नाम सामने आ रहा था। लेकिन अब ये खुलासा हुआ है कि इस हमले में ISI भी शामिल था। जिनकी मदद के बाद ही इतने बड़े हमले को अंजाम दिया गया था। हेडली ने ये भी खुलासा किया आईएसआई ही लश्कर को फंडिंग करता था।

सब हेड-शिकागो कोर्ट में हेडली का बयान -पाकिस्तान और अमेरिका में बैठे आतंकियों की पूरी बातचीत पर आईएसआई की निगरानी रहती थी। -असली प्लान धमाके और हमले का था। फिदायीन हमले का नहीं। -आतंकियों को किसी घर में सुरक्षित पनाह मिलने और बाद में बस या ट्रेन से फरार होने का इरादा था। -लश्कर हेडक्वार्टर में पाक फौज के ग्रुप कमांडर ने ताज पर हमले की एकैडमिक फिल्म दिखाई। लश्कर ने कहा कि हिंदुस्तानी हमारे दुश्मन हैं। -लश्कर को आतंकी सूची में डालने पर अमेरिका के खिलाफ केस करने की बात उठी तो लश्कर आतंकी जकी ने कहा- मैं आईएसआई से बात करूंगा। हमारे जैसे सभी संगठन आईएसआई के तहत ही काम करते हैं।  -लश्कर मुंबई में हथियारों से भरी एक और बोट भेजना चाहता था, जिसे पाक फौज ने मना कर दिया था।