ज्ञानवापी मस्जिद मामला: सर्वे में मिली शिवलिंग के स्थान को सील किया जाए, कोर्ट का आदेश

अदालत की ओर से जारी एक कॉपी में बताया गया, 'अधिवक्ता हरिशंकर जैन की ओर से बताया गया है कि मस्जिद काम्पलेक्स में शिवलिंग पाई गई है।' फिर कोर्ट ने आदेश में कहा गया है कि जहां शिवलिंग प्राप्त हुई है, उस स्थान को तत्काल प्रभाव से सील कर दिया जाए।

ज्ञानवापी मस्जिद मामला: सर्वे में मिली शिवलिंग के स्थान को सील किया जाए, कोर्ट का आदेश
x

प्रभाकर मिश्रा, वाराणसी: ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिली है। ऐसा दावा एक वकील द्वारा किया गया है। अदालत की ओर से जारी एक कॉपी में बताया गया, 'अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने बताया मस्जिद काम्पलेक्स में शिवलिंग पाई गई है।' इसके बाद वाराणसी कोर्ट के सिविल जज रवि कुमार दिवाकर द्वारा अपने आदेश में कहा गया है कि जहां शिवलिंग प्राप्त हुई है, उस स्थान को तत्काल प्रभाव से सील कर दिया जाए। अदालत ने जिले के सभी बड़े अधिकारियों को निर्देशित किया है कि जिस स्थान को सील किया गया है, उस स्थान को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी उपरोक्त समस्त अधिकारियों की व्यक्तिगत रूप से मानी जाएगी। बता दें कि अनिवार्य वीडियोग्राफी सर्वेक्षण आज यानी 16 मई को पूरा हो गया है। 


इस बीच जब से सर्वे शुरू हुआ है, तभी से कई बड़े-बड़े दावे किए गए। मंदिर के अंश होने के दावे शनिवार को भी सर्वे के बाद किए गए थे। हालांकि, अब कोर्ट के सामने दी गई इन जानकारियों के बाद मिले सबूतों की गहन जांच की जाएगी। दिन में सर्वे खत्म होने के बाद बाहर आते वरिष्ठ वकील का कहना था कि जो भी सामने आया है, वह सभी अदालत के सामने रख दिया जाएगा। तो माना जा रहा था कि बीते कई दिनों से जो मंदिर के अंश मिलने के दावे हुए हैं, उनपर अदालत में सब साफ हो जाएगा। अब हुआ भी वैसा कोर्ट ने उक्त स्थानों को सील कर दिया है।

साथ ही कोर्ट ने कहा है कि किसी को भी वहां जाने की अनुमति न दी जाए। कोर्ट ने कहा, 'सील किए गए स्थान पर किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित किया जाता है।' कोर्ट द्वारा नियुक्त कमेटी के सर्वे के लिए मौके पर पहुंचने पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद इस समय कानूनी लड़ाई का सामना कर रही है। वाराणसी की एक अदालत ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को ज्ञानवापी मस्जिद की संरचना की जांच करने का निर्देश दिया है।


मस्जिद परिसर में पूजा के हिंदू प्रतीकों की मौजूदगी के दावों के पीछे की सच्चाई का पता लगाने के लिए सर्वेक्षण किया गया है। दिल्ली की पांच महिलाएं - राखी सिंह, लक्ष्मी देवी, सीता साहू और अन्य ने 18 अप्रैल, 2021 को अपनी याचिका के साथ अदालत का रुख किया, जिसमें इसकी बाहरी दीवारों पर हिंदू देवताओं की मूर्तियों के सामने दैनिक प्रार्थना की अनुमति मांगी गई थी। उन्होंने विरोधियों को मूर्तियों को कोई नुकसान पहुंचाने से रोकने की भी मांग की।

Next Story