राज ठाकरे के खिलाफ उतरे फेरीवाले, मनसे कार्यकर्ताओं की पिटाई की

राज ठाकरे के खिलाफ उतरे फेरीवाले, जमकर की मनसे कार्यकर्ताओं की पिटाई

मुंबई (29 नवंबर): मुंबई में फेरीवालों और मनसे के बीच विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना मुंबई में फेरीवालों का लगातार विरोध कर रही है और राज्य सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम देने के बाद कार्यकर्ता खुद फेरीवालों को हटाने में लग गए हैं। इस बीच फेरीवालो नें महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। फेरीवालों ने शनिवार को मुंबई के मलाड में मनसे कार्यकर्ताओं की जमकर पिटाई की। घायल कार्यकर्ताओं को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें एक की हालत गंभीर है।

नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं की पिटाई के बाद मनसे के कार्यकर्ता और भी आक्रामक हो गए हैं। मुंबई से सटे पनवेल के मानसरोवर रेलवे स्टेशन के बाहर बैठे फेरीवालों की मनसे के कार्यकर्ताओं ने की पिटाई की और उनके सामान और ठेलों को भी नुकसान पहुँचाया।

दरअसल, एलफिंस्टन रोड रेलवे स्टेशन पुल पर हुए हादसे के बाद से ही मनसे ने रेलवे स्टेशन परिसरों पर कब्जा करने वाले फेरीवालों के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाया है। उसके कार्यकर्ता 15 अक्टूबर से अवैध फेरीवालों रेलवे परिसरों से हटा रहे हैं। इसी तरह का अभियान मनसे ने शनिवार को मलाड में चलाया।

मनसे के सुशांत मालावाडे और अन्य कार्यकर्ताओं ने रेलवे स्टेशन के आसपास के इलाके से फेरीवालों को हटाना शुरू किया। इसके विरोध में फेरीवाले इकट्ठा हो गए और उन्होंने मनसे कार्यकर्ताओं पर हमला बोल दिया। हमले में मालावाडे को गंभीर चोटें आईं हैं। उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इस बीच, मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा कि वह फेरीवालों के खिलाफ मनसे नेताओं के इस तरह के अत्याचार को बर्दाश्त नहीं करेंगे। फेरीवाले मनसे के किसी भी आघात का बदला लेने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं।