आज से फिर जाट आंदोलन, हरियाणा में हाई अलर्ट

नई दिल्ली ( 29 जनवरी ): हरियाणा में जाटों के रविवार से शुरू हो रहे आंदोलन के लिए राज्य सरकार ने कड़े इंतजाम किए हैं। राज्य के 19 जिलों में शुरू हो रहे इस आंदोलन के मद्देनजर विभिन्न शहरों में पुलिस और अर्द्ध सैनिक बलों ने मोर्चा संभाल लिया है। राज्य हाइ अलर्ट जारी कर दिया गया है। हिसार, रोहतक, कैथल, जींद सहित अधिकतर शहरों में फ्लैग मार्च हुआ। पिछले साल आंदोलन के दौरान जो कुछ हुआ उसे देखते हुए इस बार सरकार कोई ढिलाई नही बरतना चाहती। हिसार सहित संवेदनशील जिलों में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है।

जाट आंदोलन से निपटने को सरकार ने पूरी ताकत झोंक दी है। प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी पूरे हालात पर नजर रखे रहे हैं। पुलिस व अ‌र्द्धसैनिक बलों के जवानों ने कई शहरों में फ्लैग मार्च किया। रोहतक, हिसार, जींद, कैथल, भिवानी, झज्जर और सोनीपत जिलों पर खास नजर रखी जा रही है। हिसार शहर और हांसी में पुलिस और अर्द्ध सैनिक बलों ने फ्लैग मार्च किया।

हिसार में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए आगामी आदेशों तक धारा 144 लागू कर दी गई है। ऐसा ही अन्य जिलों में भी किया गया है। आंदोलन के दौरान गैर कानूनी गतिविधियां, सड़क-रेल मार्ग को बाधित करने और वाटर चैनल और बिजली घर आदि की सेवाएं बाधित करने पर कडी कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

आदेशों के अनुसार पांच या इससे अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने, किसी भी प्रकार का घातक हथियार लेकर चलने पर पूर्णतया पाबंदी लगा दी गई है। इन हथियारों में अग्नि अस्त्र, तलवार, लाठी, बरछा, कुल्हाड़ी, जेली, गंडासे,चाकू व अन्य कोई भी हथियारनुमा वस्तु शामिल हैं।

कैथल में पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स ने जिले भर में फ्लैग मार्च किया। टुकडि़यां लघु सचिवालय से चलकर पिहोवा चौक होते हुए कलायत, बालू, कसान, किठाना, जाखौली, देबन टुकड़ियां। एसपी सुमेर प्रताप सिंह, एडीसी कैप्टन शक्ति सिंह तीन एसडीएम सहित तमाम अधिकारी फ्लैग मार्च में शामिल हुए।

दिल्ली को जलापूर्ति करने वाली मूनक नहर की सुरक्षा बढ़ाते हुए रेलवे टै्रक और हाईवे पर अतिरिक्त फोर्स की तैनाती की गई है। सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों के साथ नियमित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की व्यवस्था की गई है। हर रोज सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की जाएगी। पुलिस कर्मियों और प्रशासनिक अधिकारियों की छुट्टियां पहले ही रद की जा चुकी हैं।