प्रो.वीरेंद्र को कोर्ट से झटका, जमानत याचिका खारिज

नई दिल्ली(4 मार्च): हरियाणा की एक सत्र अदालत ने जाट आरक्षण के दौरान हिंसा और भीड़ को भड़काने के आरोपी प्रोफसर वीरेंद्र सिंह की अग्रिम जमानत याचिका ख़ारिज कर दी है। कोर्ट ने सरकार को 10 मार्च तक इस मामले में जवाब दाखिल करने का नोटिस दिया है।

आपको बता दें कि प्रो.वीरेंद्र पर देशद्रोह और हिंसा भड़काने का मामला दर्ज है। वीरेंद्र फिलहाल इस मामले में अभी तक फरार है। राज्य में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हिंसा भड़काने को लेकर वीरेंद्र के खिलाफ 23 फरवरी को एफआईआर दर्ज किया गया था। वीरेंद्र, हुड्डा के सलाहाकार रह चुके हैं। 

जाट आंदोलन के दौरान प्रदर्शनकारियों को उकसाने वाला एक ऑडियो सामने आने के बाद वीरेंद्र के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया था। इस ऑडियो क्लिप में वीरेंद्र की आवाज थी और वह किसी कप्तान साहब से बात कर रहे थे।

विडियो में वह कह रहे थे कि जाट आंदोलन का उग्र असर सिरसा में वैसा नहीं दिख रहा, जैसा बाकी जगहों में दिख रहा है। एक मार्च को स्थानीय अदालत ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी का वॉरंट जारी किया गया था।