करतारपुर कॉरिडोर: सुषमा स्वराज ने ठुकराया पाक का न्यौता, कही ये बातें

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (25 नवंबर): करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला रखने के कार्यक्रम में पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को भी पाक आने का निमंत्रण भेजा है। यह कार्यक्रम 28 नवंबर को आयोजित होना है। इसके जवाब में सुषमा ने एक पत्र लिखकर कहा है कि वह कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सकेंगी। उनके स्थान पर भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर और हरदीप सिंह पुरी कार्यक्रम में शिरकत करेंगे।

शनिवार को पाकिस्तान से न्योता मिलने के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के कार्यालय ने भी पत्र के जरिए भारत का पक्ष सार्वजनिक कर दिया। बताया गया कि तेलंगाना में चुनाव प्रचार समेत पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों में व्यस्तता के कारण विदेश मंत्री शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाएंगी। हालांकि उन्होंने कार्यक्रम के महत्व और सिख श्रद्धालुओं की भावनाओं को स्वीकार करते हुए बताया कि उनकी जगह केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर और केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करेंगे। सुषमा स्वराज ने इस न्योते के लिए पाकिस्तान को धन्यवाद भी दिया।  

आपको बता दें कि शनिवार को पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को आने का न्योता भेजे जाने की जानकारी दी। पाकिस्तान में 28 नवंबर यानी बुधवार को करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास का कार्यक्रम होना है। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान इस गलियारे का शिलान्यास करेंगे। इधर, भारत की तरफ उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू 26 नवंबर को डेरा बाबा नानक-करतारपुर साहिब सड़क गलियारे की आधारशिला रखेंगे। यह सड़क गुरदासपुर जिले के मान गांव से पाकिस्तान से लगने वाली अंतरराष्ट्रीय सीमा तक जाएगी।

भारत सरकार ने 2019 में गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में करतारपुर सड़क गलियारे के निर्माण का 22 नवंबर, 2018 को फैसला किया। इस सड़क का निर्माण भारत-पाकिस्तान सीमा तक एकीकृत विकास परियोजना के रूप में किया जाएगा। इस गलियारे के निर्माण से सिख श्रद्धालु पाकिस्तान में रावी नदी के तट पर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब में मत्था टेक सकेंगे।