BBL में खेलने वाली ये है पहली भारतीय महिला क्रिकेटर, पढिए पूरा सफर

नई दिल्ली(8 जनवरी): ऑस्ट्रेलिया में हो रहे वुमन बिग बैश लीग में पहली बार कोई भारतीय क्रिकेटर खेल रही है। 27 साल की हरमनप्रीत कौर भारतीय महिला क्रिकेट टीम की स्टार खिलाड़ी हैं। वे इंडियन वुमन क्रिकेट टीम की कप्तान भी रही हैं।

- हरमनप्रीत लुधियाना के मोगा के छोटे से गांव दुनेके की रहने वाली हैं। उन्हें साथ खेलने के लिए लड़कियां नहीं मिलती थीं तो लड़कों के साथ ही प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया।

- 2009 में ऑस्ट्रेलिया में हुए महिला वर्ल्डकप के एक मैच में हरमनप्रीत ने जबरदस्त छक्का मारा था। यह इतना लंबा था कि डोपिंग टीम को आश्चर्य हुआ।

- लिहाजा उनका डोप टेस्ट किया गया और बैट की जांच भी की गई, लेकिन कुछ भी गलत नहीं निकला।

- पिता हरमंदर सिंह कहते हैं कि तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ी हरमनप्रीत की कहानी देश की दूसरे खिलाड़ियों से काफी अलग है।

- "न तो उसके पास खेलने का माहौल था और न ही साथी। लड़कों के साथ गली में क्रिकेट खेलनी शुरू की।"

- "वो भी उस माहौल में जहां अपशब्द कहना आम था। लड़के खेल में अपशब्द कहते। मैंने उसे रोका नहीं बल्कि कान बंद रखकर शॉट्स से जवाब देने को कहा।"

- "हरमन रुकी नहीं और अपने कद के हिसाब से बड़े बल्ले से शॉट्स लगाती रहीं। वे घर में सबसे बड़ी थीं, मां खेलने से रोकती, लेकिन मैंने कभी मना नहीं किया।"

- "हरमन की टीचर्स से भी क्रिकेट को लेकर बातें सुनने को मिलतीं। इसके बाद भी हमने उसे रोका नहीं।"

- वे बताते हैं, "जब वो पैदा हुई तो सबसे पहले हमने उसे जो टीशर्ट पहनाई उस पर गुड बैटिंग लिखा हुआ था।"

- "हमने यह टी-शर्ट आज तक संभाल कर रखी है, लेकिन हमने ये नहीं सोचा था कि यह गुड बैटिंग एक दिन बेस्ट बैट्सवुमन में बदल जाएगी।"

- वैसे हरमनप्रीत के जीवन में टी-शर्ट से कई किस्से जुड़े हुए हैं। वे दंगों के पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने के लिए हमेशा 84 नंबर वाली टीम इंडिया की टीशर्ट पहनती हैं।

- उनके क्रिकेट के शौक के कारण कई लोग उन्हें खिलाड़ियों का नाम लिखी हुई टीम इंडिया की टी-शर्ट गिफ्ट कर चुके हैं, लेकिन उन्होंने उसे कभी नहीं पहना।

- क्योंकि उनकी जिद थी कि वे टीम इंडिया की जर्सी तब ही पहनेंगी, जब उस पर उनका खुद का नाम लिखा हुआ हो। उस समय हरमनप्रीत 15 साल की थीं।