आम्रपाली विवाद: हरभजन ने कहा, वेल डन धोनी, कंपनी पर लगाए ये आरोप

नई दिल्ली(16 अप्रैल): रियल एस्टेट कंपनी आम्रपाली बिल्डर्स से नाता तोड़ने पर टीम इंडिया के स्टार ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को बधाई दी है। हरभजन ने ट्वीट कर न केवल धोनी को वेल डन कहा बल्कि आम्रपाली के खिलाफ अपना गुस्सा भी दिखाया।

हरभजन ने ट्वीट में लिखा कि आम्रपाली की ब्रैंड ऐंबैसडरशिप की छोड़ कर अच्छा किया धोनी। आम्रपाली ने 2011 में विला देने की घोषणा करने के बावजूद नहीं दिया।

हरभजन सिंह का ट्वीट

हरभजन के इस ट्वीट का असर भी देखने को मिला। उनके ट्वीट का जवाब देते हुए कंपनी के सीएमडी अनिल शर्मा ने कहा, ''वर्ल्ड कप के बाद मैंने 11 क्रिकेटरों को विला देने की बात कही थी। बीच में किसी ने संपर्क नहीं किया। आज भी उन क्रिकेटरों के नाम पर अलॉटेड हैं। आम्रपाली ग्रीन वैली के विला में प्रोजेक्ट बनकर तैयार है। वे प्रॉसेस फॉलो करें अौर आकर ले लें।'

और क्या कहा अनिल शर्मा ने 

- ''आज तक हमसे कभी संपर्क नहीं किया गया। कोई सामान तो है नहीं कि हम उठाकर उन्हें दे दें। विला देने का एक प्राॅसेस होता है। वे (हरभजन) आज बयानबाजी कर रहे हैं। वे पहले सामने नहीं आए। सीधे तौर पर आरोप नहीं लगा सकते कि हमने वादा किया और निभाया नहीं।''

- ''हमने महेंद्र सिंह धोनी और वर्ल्ड कप जीतने वाले बाकी क्रिकेटर्स को भी अलॉट किया था। अलॉटमेंट के लिए फ्लैट तैयार हैं।'' 

- ''विला अनाउंस करना पब्लिसिटी स्टंट कब होता है? वे सेलिब्रिटी हैं। क्रिकेट खेलते हैं। हम उनसे कैसे संपर्क कर सकते हैं। वे लेने को तैयार हैं तो रिप्रेजेंटेटिव्स भेजें। हम कर्ट्सी में दे रहे हैं, फिर भी हम पर आरोप लगा रहे हैं।''

बता दें इससे पहले धोनी के बिजनेस पार्टनर अरुण पांडे ने  दावा किया कि टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी रियल एस्टेट ग्रुप आम्रपाली के अब ब्रांड एंबेसडर नहीं हैं। अब वे आम्रपाली ग्रुप के विज्ञापनों में भी नजर नहीं आएंगे।

 

क्या है विवाद

कुछ ही दिन पहले आम्रपाली ग्रुप के प्रोजेक्ट में घर खरीदने वालों ने धोनी के खिलाफ ट्विटर पर मुहिम छेड़ दी थी। जिन्हें वक्त पर घर नहीं मिला है वो कहने लगे कि घर दिला दो धोनी। जिनके फ्लैट में वादे के मुताबिक काम पूरे नहीं हुए हैं वो बिल्डर पर काम पूरा करवाने के लिए दबाव बनाने की मांग करने लगे थे। इस पर आखिरकार धोनी को भी ये कहना पड़ा कि वो इस बारे में आम्रपाली ग्रुप से बात करेंगे। लेकिन धोनी ने ये खुलासा नहीं किया कि उन्होंने आम्रपाली से रिश्ता तोड़ लिया है।

खरीदारों से वादा खिलाफी के आरोपों पर आम्रपाली ग्रुप के सीएमडी अनिल शर्मा ने भी दो दिन पहले ही सफाई दी थी. उन्होंने धोनी का गुनगाण करते हुए ये जरूर कहा था कि धोनी ने दो साल से फीस भी नहीं ली है।

मामले पर क्या बोले थे धोनी?

- धोनी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि मौजूदा इकोनॉमिक सिचुएशन में बिल्डर्स के सामने कई चैलेंज हैं। इसके बावजूद बिल्डर्स को हर हाल में इन्वेस्टर्स से किए गए वादे को पूरा करना चाहिए।

- धोनी ने कहा कि वे इस मुद्दे पर आम्रपाली के मैनेजमेंट से बात करके कोशिश करेंगे कि मैनेजमेंट लोगों से किए गए वादे को पूरा करने को तैयार हाे जाए।