बाबा नीब करोरी में नजर आये हनुमान जी, और कहां मिल सकते हैं- पढ़ें खबर

नई दिल्ली (9 जनवरी): हनुमान को कलयुग का देवता बताया गया है। ऐसा  वेदों में साफ लिखा हुआ है कि कलयुग में जो इंसान हनुमान का पूजन करेगा और अगर उसकी भक्ति सच्ची हुई तो उसको कलयुग में साक्षात भगवान के दर्शन जरुर होंगे। कलयुग में इंसान भगवान के ऊपर भी विश्वास नहीं कर पा रहा है। उसको ऐसा लगता है कि जैसे भगवान जैसी कोई चीज नहीं होती है। यदि भगवान होता है तो उसके दर्शन हमको जरुर होने चाहिए।

तो आइये आज आपको बताते हैं कि कलयुग के भगवान हनुमान के दर्शन आपको किन जगहों पर हो सकते हैं। 

1- शास्त्र बताते हैं कि जिन जगहों पर राम का नाम सच्चे दिल से लिया जाता है वहां हनुमान किसी ना किसी रूप में निश्चित रूप से विराजित होते हैं।

ऐसा कई बार देखा भी गया है कि रामायण का पाठ चल रहा है और वहां वानर रूप में हनुमान कई बार आये हैं। इस तरह के कई चमत्कार देखे भी गये हैं। खुद तुलसीदास जी बताते हैं कि ऐसा हो नहीं सकता है कि कहीं सच्चे दिल से राम का नाम लिया जा रहा हो और वहां भगवान हनुमान हाजिर न हों।

2- गंधमादन पर्वत पर कलयुग में हनुमान का निवास होगा, इस बात के प्रमाण कई जगह दिए गये हैं। कई साधुओं ने तो इस जगह पर तपस्या करके हनुमान जी के दर्शन साक्षात रूप में किये भी हैं। आपको बता दें कि गंधमादन कैलाश पर्वत के उत्तर में स्थित है। हनुमान का कलयुग में एक निवास स्थान यह भी बताया गया है।

3- उत्तर भारत के लोगों ने किष्किंधा का नाम तो बस रामायण में ही पढ़ा हुआ है। लेकिन आपको बता दें कि कर्णाटक के कोप्पल और बेल्लारी जिले के पास आज भी किष्किंधा क्षेत्र हैं जहाँ एक पर्वत पर हनुमान कि माता ने बैठकर तपस्या कि थी। इस स्थान के बारें में अधिक लोग जानते नहीं हैं। आपको बता दें भगवान राम को भी हनुमान यही मिले थे। कलयुग में हनुमान कई साधुओं को यहाँ मिले हैं।

4- इस बात को कई लोग स्वीकार कर चुके हैं कि कलयुग में हनुमान जी बाबा नीब करोरी के अन्दर नजर आये थे। आज भी बाबा के नैनीताल के मंदिर और लखनऊ वाले मंदिर में कई चमत्कार जो हनुमान जी से जुड़े हुए हैं वह होते रहते हैं। बाबा में  कई भक्तों को हनुमान ने दर्शन किए हैं।

5- रामायण में एक जगह ऐसा भी जिक्र है कि जब भगवान राम का धरती से जाने का समय हुआ तो हनुमान भी इस जगत को छोड़ राम जी के साथ जाना चाहते थे। तब भगवान राम ने हनुमान को बोला था कि प्रिय हनुमान जो समय आगे आने वाला है वह समय काल का समय होगा। कलयुग उसका नाम होगा और तब धर्म का खात्मा हो रहा होगा। तब जो राम के भक्त होंगे उसके दिल में तुमको रहना होगा और इन राम भक्तों कि लाज बचानी होगी। इसीलिए तभी से हनुमान अपने राम भक्तों के दिलों में सदा विराजमान रहते हैं।