'विदेशी नेताओं की मूर्तियों की भारत में जरूरत नहीं'

नई दिल्ली ( 7 मार्च ): त्रिपुरा चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद दक्षिण त्रिपुरा में कथित तौर पर बीजेपी समर्थकों की भीड़ ने मार्क्‍सवादी क्रांति के शिखर पुरुष और रूसी क्रांति के नायक व्‍लादिमीर लेनिन की प्रतिमा ढहा दी। इस पर गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने मंगलवार को कहा है कि सरकार हर तरह की हिंसा की निंदा करती है, लेकिन भारत में विदेशी नेताओं की मूर्तियों की कोई जरूरत नहीं है।

अहीर ने कहा, 'सरकार किसी भी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करती है। राज्य सरकार इस मामले को देख रही है, लेकिन मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि भारत में विदेशी नेताओं की प्रतिमाओं की जरूरत नहीं है।' 

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा, 'इस देश में महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद, बी आर अंबेडकर, दीनदयाल उपाध्याय और राम मनोहर लोहिया जैसे कई बड़े आदर्श पुरुष हैं।' 

त्रिपुरा में बीजेपी की जीत के बाद से ही सूबे में हिंसा की छिटपुट घटनाओं का दौर चल रहा है। सीपीएम समेत लेफ्ट ने लेनिन की प्रतिमा गिराने की निंदा की है।