मक्का में शैतान को पत्थर मारने का समय घटा

नई दिल्ली (25 अगस्त): मक्का में पिछले साल हुए हादसे को देखते हुए सऊदी प्रशासन ने अगले महीने से शुरू हो रहे हज के दौरान भीड़ को नियंत्रण के लिए कड़े कदम उठाए हैं। इस बार हज के दौरान शैतान को पत्थर मारने वाली रस्म की अवधि 12 घंटे घटा दिए जाएंगे।

पिछले साल हज के दौरान शैतान को पत्थर मारने के वक्त हुई भगदड़ में 2300 लोगों की मौत हो गई थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया। इस्लाम के सबसे पवित्र स्थान मक्का की मस्जिद से 5 किलोमीटर पूर्व मीना में 11 सितंबर से तीन दिनों के लिए हमेशा की तरह शैतान को पत्थर मारने की रस्म अदा की जाएगी।

इस साल पहले दिन 6:00 से 10:30 बजे सुबह तक, दूसरे दिन 2:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक और अंतिम दिन सुबह 10:30 बजे से शाम 2:00 बजे पत्थर मारने की रस्म नहीं अदा की जाएगी। इस प्रक्रिया से हाजियों के लिए पत्थर मारना आसान हो जाएगा और भीड़ को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।