पाकिस्तानी आतंकियों के सुर बदले, हाफिज़ बोला मंदिरों की हिफाज़त करेंगे

नई दिल्ली (4 मई): चीन के खिलाफ भारत की एक चाल का असर पाकिस्तान में दिखायी देने लगा है। चीन ने भारत के दबाव में जैसे ही आतंकवादी संगठनों के खिलाफ के पाकिस्तान को समर्थन न दिये जाने के संकेत दिये, वैसे ही पाकिस्तान के आतंकियों के सुर बदल गये हैं। अभी तक हिंदुओं को काफिर कहने वाला जमात-उद-दावा का सरगना हाफिज सईद भी अब मंदिरों एवं गैर-मुस्लिमों के अन्य पवित्र स्थलों की हिफाज़त की आवाज़ उठाने लगा है।

सिंध  के मतली शहर में एक सभा को संबोधित करते हुए सईद ने कहा कि मुस्लिमों की ये जिम्मेदारी है कि वे अपने हिंदू भाईयों के पवित्र स्थलों की रक्षा करें। मगरमच्छी आंसू बहाते हुए हाफिज़ ने कहा कि हम लोग देश में मंदिरों और गैर-मुस्लिमों के अन्य पवित्र स्थलों को नहीं तोड़ने देंगे। उसने ने इन आरोपों को भी खारिज किया कि भारत से सटे सिंध के थार में मदरसों की शुरआत करके उनका संगठन चरमपंथ को बढ़ावा दे रहा है। इसके विपरीत पाकिस्तानी अखबार 'डॉन' लिखा है हाफिज़ सईद का कश्मीर पर रुख वही है। मतली में सईद ने कहा कि पाकिस्तान में भारत की खुफिया एजेंसी रॉ के जासूस कौम और मुल्क को तोड़ने का काम कर रहे हैं,लेकिन नवाज शरीफ सरकार इस मुददे पर गूंगी बनी हुई है।