आतंकवादी सरगना हाफिज सईद करेगा अपनी राजनीतिक पार्टी की घोषणा

नई दिल्ली ( 5 अगस्त ): पाकिस्तान में नजरबंद जमात-उद-दावा मुखिया और आतंकवादी सरगना हाफिज सईद ने राजनीति में उतरने का मन बना लिया है। हाफिज सईद ने अपने संगठन जमात-उद-दावा की ओर से पाकिस्तान चुनाव आयोग में 'मिल्ली मुस्लिम लीग पाकिस्तान' के नाम से राजनीतिक पार्टी को मान्यता देने की अर्जी दी है। हाफिज सईद का मकसद जमात-उद-दावा को 'मिल्ली मुस्लिम लीग पाकिस्तान' के रूप में पुन: स्थापित करना है।

हाफिज सईद 2008 नवंबर में हुए मुंबई हमलों का मुख्य आरोपी है। इस आतंकी हमले में 166 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। कश्मीर में हिंसा और अलगाववादियों को भी सईद बढ़ावा देता रहता है। इसके अलावा भारत में कई बम धमाकों और हिंसा की वारदातों में उसका नाम शामिल है। 

पाकिस्तान में 2018 में होने वाले आम चुनावों को ध्यान रखते हुए उसने पाकिस्तान चुनाव आयोग में अपनी पार्टी को मान्यता देने की अर्जी दी है। हाफिज सईद पाकिस्तीन स्वतंत्रा दिवस के मौके पर 14 अगस्त को लाहौर में  औपचारिक रूप से अपनी राजनीतिक पार्टी 'मिल्ली मुस्लिम लीग पाकिस्तान' की घोषणा करेगा। 

लेकिन अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि 'मिल्ली मुस्लिम लीग' का नाम औपचारिक रूप से अभी तक तय नहीं किया गया है, लेकिन हाफिज की पार्टी को पहले से ही पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई का आशीर्वाद मिला है।

दरअसल इस वक्त पाकिस्तान में राजनीतिक उथल-पुथल का माहौल है। पनामा केस में नवाज शरीफ को पीएम की कुर्सी गंवानी पड़ गई है। ऐसे में हाफिज सईद को लगता है कि उसके लिए यह राजनीति में कदम रखने का सबसे बेहतर मौका है, क्योंकि पाकिस्तान की सेना और आईएसआई में हाफिज सईद की अच्छी पैठ है। अगर चुनाव आयोग से हरी झंडी मिल जाती है तो आतंकवाद का यह सरगना पाकिस्तान की राजनीति में अपने पैर जमाने की कोशिश करेगा।