परमाणु बम हासिल करने में लगा आतंकी हाफिज सईद

नई दिल्ली (13 दिसंबर): जमात उद दावा का चीफ हाफिज सईद पूरी दुनिया के लिए बहुत बड़ा खतरा है। ये खतरा नासूर बन जाएगा अगर इस आतंकवादी के पास पाकिस्तान का परमाणु हथियार लग गया। परमाणु बम हासिल करने के लिए हाफिज इन दिनों एक नया प्लान तैयार कर रहा है। इस प्लान का नाम है ऑपरेशन स्टूडेंट।


हाफिज सईद की नजर इन दिनों पाकिस्तान की सबसे प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी पर है। ये आतंकवादी यूनिवर्सिटी ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेकनोलॉजी के छात्रों को भड़का रहा है। . हाफिज चाहता है इस यूनिवर्सिटी के पढ़े लिखे छात्र पाकिस्तान एटोमिक एनर्जी कमिशन और खान रिसर्च लेबोरेटरीस ज्वाइन करें। इन दोनों संस्थानों में परमाणु कार्यक्रम चलते हैं। हाफिज सईद का प्लान है कि इन छात्रों के जरिए वो परमाण हथियारों पर कब्जा जमा सके।


कैबिनेट सचिवायल के एक पूर्व अधिकारी ने अपनी किताब में ये खुलासा किया है। तिलक देवाशर ने यूनिवर्सिटी ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेकनोलॉजी के एक प्रोफेसर की किताब का हवाला देते हुए कहा, '' हाफिज सईद और जमात उद दावा का को फाउंडर जाफर इकबाल अपने छात्रों को पाकिस्तान के न्यूक्लियर कार्यक्रम ज्वाइन करने के लिए उकसा रहे हैं। वो चाहते हैं कि जमात उद दावा की तरफ झुकाव रखने वाले छात्र ग्रेजुएशन के बाद न्यूक्लियर कार्यक्रम के साथ जुड़े''


भारत और पाकिस्तान के बीच अब तक कई बार आमने सामने का मुकाबला हो चुका है। हर जंग में पाकिस्तान के सैनिकों ने भारतीय फौज के आगे घुटने टेके हैं। हाफिज भी ये बात जानता है कि भारत ने लड़ना मतलब मौत को दावत देना है। इसलिए आतंकी हाफिज सईद परमाणु हथियार हथियाना चाहता है। पहले भी कई बार हाफिज सईद भारत को परमाणु ताकत की धमकी दे चुका है।


सिर्फ हाफिज सईद ही नहीं पाकिस्तान के कई हुक्मरान भी परमाणु हमले की गीदड़ भभकी दे चुके हैं, लेकिन हाल ही में पाकिस्तान के एक वरिष्ठ पत्रकार और पॉलिटिकल एनलिस्ट हसन निसार ने पाकिस्तान की आवाम को एक सलाह दी है। हसन निसार ने कहा, '' यहां जो अनपढ़ों का टोला है, यहां पाकिस्तान में, इन जाहिलों को पता ही नहीं कि एटम बम क्या होता है। इंडिया की आबादी 1 अरब से ज्यादा है और पाकिस्तान की 20 करोड़, सोचिए अगर एटमी जंग हुई तो क्या होगा? आपका तो 18 करोड़ गया और आपने 4 गुना ज्यादा भारत का नुकसान किया तो भी भारत में 20 करोड़ बच जाएंगे, तो ये लोग होश में रहें। यहां पागलों का हुजूम है। ये अजीब तरह के लोग हैं जो अपनी बर्बादी का जश्न मनाते हैं और ये पागलपन पुराना है।''


मतलब साफ है अगर हाफिज के हाथ परमाणु बम लग जाता है, वो अपने मंसूबों में कामयाब हो जाता है तो इसका खामियाजा खुद पाकिस्तान को चुकाना होगा, जिसकी शह पर ये आतंकवादी पल रहा है।