मोदी-ट्रम्प की दोस्ती से डरा Pakistan, आखिरकार हाफिज सईद को माना आतंकी

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (18 फरवरी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की जुगलबंदी रंग लाती नजर आ रही है और यह पीएम मोदी की कूटनीति का ही असर है कि आखिरकार पाकिस्तान सरकार ने मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद को आतंकी मान ही लिया। डॉन न्यूज की खबर के मुताबिक पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने सईद और उसके करीबी सहयोगी काजी काशिफ को आतंकवाद निरोधक कानून यानी ATA की चौथी अनुसूची में डाल दिया है। साफ है कि पाकिस्तान सरकार ने यह कार्रवाई अमेरिका की उस चेतावनी के बाद की है जिसमें अमेरिका ने पाकिस्तान से साफ-साफ शब्दों में कहा था कि अगर जमात-उद-दावा और उसके सरगना आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो अमेरिका पाकिस्‍तान पर सख्त रूख अख्तियार कर सकता है।

एक दिन पहले ही हाफिज सईद PAK सरकार से बैन हटाए की कर रहा था मांग- शुक्रवार को आतंकी सईद ने पाकिस्तान सरकार से कहा था कि उसका नाम उस सूची से तत्काल हटाया जाए जो देश से बाहर जाने को लेकर उस पर प्रतिबंध लगाती है। उसने दावा किया कि उससे न तो सुरक्षा को कोई खतरा है और न ही उसका संगठन आतंकवादी गतिविधियों में कभी शामिल रहा है। मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड ने गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान को लिखे पत्र में कहा, 38 लोगों को सूची में डालने वाले 30 जनवरी 2017 को जारी ज्ञापन पत्र को तत्काल वापस लिया जाना चाहिए।

आतंकी हाफिज सईद को पाक सरकार ने 30 जनवरी को किया था नजरबंद-  सईद सहित 4 अन्य को उसकी पार्टी और राजनीतिक सहयोगियों के गुस्से और हंगामे के बीच 30 जनवरी को नजरबंद किया गया था। पाकिस्तानी न्यूज चैनलों के मुताबिक बड़ी संख्या में पुलिस बलों ने लाहौर की मस्जिद-ए-कदसिया चौबुरजी को घेर लिया, मस्जिद में उस वक्त आतंकी हाफिज सईद मौजूद था। वहां से उसे सुरक्षा के बीच जौहर टाउन स्थित उसके आवास ले जाया गया। जहां उसको नजरबंद रखा गया। नजरबंद होने के बाद आतंकी हाफिज सईद ने एक वीडियो संदेश भी जारी किया था। सईद के आवास को उप-कारागार घोषित कर दिया गया है। पाकिस्तान पंजाब के गृह विभाग के निर्देश पर लाहौर में जमात-उद-दावा के मुख्यालय पर से उसका झंड़ा उतार कर पाकिस्तान का ध्वज फहरा दिया गया।

पाकिस्तान की संसद में उठे थे सवाल- "क्यों पाल रखा है, क्या अंडे देता है हाफिज"...

    * पाकिस्तान की नेशनल एसेंबली की फॉरेन अफेयर्स कमेटी में उठे थे हाफिज सईद पर सवाल।

    * नवाज की पार्टी PML-N के सांसद राणा मोहम्मद अफजल ने उठाए थे हाफिज सईद पर सवाल।

    * अफजल ने पूछा था आखिर हाफिज जैसे 'नॉन स्टेट एक्टर्स' को हर क्यों दे रहे हैं बढ़ने का मौका।

    * हाफिज के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए कहा, हम ऐसे लोगों के पर क्यों नहीं कतर रहे।

    * अफजल ने साथ ही कहा,हाफिज सईद कौन से ऐसे अंडे दे रहा है जिस वजह से हम उसे पाल-पोस रहे हैं।

अमेरिका से डरा हुआ है पाकिस्तान, इसलिए कर रहा है कार्रवाही...

    * राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने प्रेसिडेंशियल कैम्पेन के दौरान पाक को खतरनाक मुल्क बताया था।

    * ट्रंप ने कहा था कि पाकिस्तान ने 9/11 के बाद अमेरिका को कई बार धोखा दिया है।

    * ट्रंप ने कहा था कि राष्ट्रपति बनने के बाद पाकिस्तान को हर गलती के लिए सजा देंगे।

    * इससे अनुमान पहले ही लगाया गया था कि वे पाक के मामले में कड़ा फैसला कर सकते हैं।

    * पाकिस्तान को डर है कि अमेरिका से करोड़ों डॉलर की मिल रही मदद बंद हो सकती है।

    * अमेरिका पाक  को 350 करोड़ डॉलर यानी 24 हजार करोड़ रुपए की सालाना मदद देता है।

    * ये मदद आतंकियों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए दी जाती है।

    * लेकिन पाकिस्तान इसका इस्तेमाल भारत के खिलाफ आतंक बढ़ाने के लिए करता है।

    * यह बात कई बार पूर्व राष्ट्रपति ओबामा के कार्यकाल में अमेरिकी संसद में भी उठ चुकी है।

कौन है आतंक का सरगना हाफिज सईद...

    * पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का मुखिया है हाफिज सईद।

    * अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा का प्रमुख है हाफिज।

    * अमेरिका ने दुनिया में 'आंतकवाद के लिए जिम्मेदार' लोगों की सूची जारी की है।

    * इस सूची में हाफ़िज़ सईद को दूसरे स्थान पर रखा गया है।

    * सूची में तालिबान प्रमुख मुल्ला उमर अलकायदा प्रमुख अल जवाहिरी शामिल हैं।

    * मुंबई 26/11 आतंकी हमले का आरोपी है हाफिज सईद।

    * अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर के इनाम की घोषणा कर रखी है इस आतंकी पर।

    * पाकिस्तान सरकार के समर्थन से भारत के खिलाफ लगातार जहर उगलता रहा है हाफिज।

    * मुंबई हमलों के बाद अंतरराष्ट्रीय दबाव को देखते हुए छह महीने तक नजरबंद रखा गया था।

    * लेकिन लाहौर हाई कोर्ट के आदेश के बाद उसे 2009 में रिहा कर दिया गया।

    * भारत सरकार ने 2003, 2005 और 2008 में हुए आतंकवादी हमलों के लिए दोषी माना है।

    * हाफिज सईद ने कश्मीरियों की 'मदद' के नाम पर पैसों की उगाही करता है पाकिस्तान में।

    * जमात-उद-दावा से जुड़ा फलाह-ए-इंसानियत नाम के संगठन के जरिए की जाती है उगाही।

    * आतंकी सरगना ने पूरे पाकिस्तान में चंदा जुटाने के लिए कैंप स्थापित कर रखे हैं।

    *  इसके अलावा हाफिज सईद तस्करी, ड्रग्स और मांस के निर्यात से आतंक के लिए पैसे जुटाता है।

    * एक अनुमान के मुताबिक आतंक के सरगना ने 400 करोड़ की सम्पत्ति बना ली है।

    * 2013 में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की सरकार ने हाफिज के संगठन को 60 करोड़ का अनुदान दिया था।

    * इस पैसे का इस्तेमाल लश्कर के आतंकियों को ट्रेन करने और भारत में दहशतगर्दी फैलाने के लिए करता है।