आतंकी हाफिज सईद का गुर्गा था बुरहान वानी, ऑडियो क्लिप से बड़ा खुलासा

नई दिल्ली (2 दिसंबर): पाकिस्तान के झूठ का अंत नहीं है। और हरबार उसके झूठ की पोल खुल जाती है। आतंकी बुहरान वानी के मामले में भी ऐसा ही हुआ है। जिस बुहरान वानी का राग नवाज शरीफ बड़े ही शराफत से यूएन के सामने उठाया था अब उसकी भी पोल खुल गई है। आतंकी बुरहान वानी और हाफिज सईद के गहरे रिश्ते थे। इन दोनों की बातचीत का एक ऑडियो सामने आया है जिसमें हाफिज बुरहान को हर संभव मदद का भरोसा दे रहा है। बुरहान भी पैसे और मदद के लिए हाफिज से मिन्नतें कर रहा है।   बुरहान से बातचीत के दौरान हाफिज यह कह रहा है कि आपसे बात करने की इच्छा बहुत दिनों से थी। बातचीत से साफ है कि  हाफिज के आदेश और उसकी फंडिंग के दम पर ही बुरहान वानी कश्मीर घाटी में आतंकवाद का पोषिण कर रहा था। इस बीतचीत में बुरहान कह रहा है दुश्मन पस्त है हमें इस वक्त को गंवाना नहीं चाहिए। हमें आपका साथ चाहिए बस।

बुरहान की इस अपील से साफ है कि उसी के इशारों पर जम्मू-कश्मीर में बम धमाके और हमले किये जा रहे थे। हाफिज इस बातचीत में बुरहान की जमकर तारीफ कर रहा है। इतना ही नहीं दोनों बातचीत में अपनी नापाक हरकतों के लिए दुआएं मांग रहे हैं। बुरहान के मारे जाने के बाद हाफिज सईद ने भारत पर जमकर हमला बोला था। हाफिज ने उसके लिए नमाज ए जनाजा और श्रद्धांजलि सभा भी आयोजित की थी।

 माना जाता है कि यह बातचीत बुरहान के मारे जाने के कुछ दिन पहले की है। पहले बुरहान वानी की आवाज सुनायी देती है जिसके बाद वो किसी से हालचाल पूछता है। इसके बाद वो व्यक्ति पीर साहेब (हाफिज सईद) से बातचीत के लिए कहता है। बातचीत में हाफिज कहता है - सलाम वालेकुम। इस पर बुरहान वानी कहता है वालेकुम सलाम, जी कैसे हैं आप? इस पर आतंकवादी हाफिज सईद बोलता है - बुरहान भाई बोल रहे हैं उधर से बुरहान वानी कहता है-जी,बुरहान बोल रहा हूं, आप ठीक हैं? इस पर हाफिज सईद कहता है- अल्ला का बहुत शुक्र है। मुझे खुशी हुई आपसे बात करके, अल्लाताला आपको बरकत दे, अल्लाताला आपको इबादत करने का मौका दे। इसके अलावा भी हाफिज उसे कई दुआएं देता है।  

फिर बुरहान वानी की आवाज है- हमें बहुत तमन्ना थी आपसे बात करने की, आपकी सेहत ठीक है? इस पर आतंकी हाफिज सईद कहता है-अल्लाह का शुक्र है। आप मुश्किल हालात में हैं हम जानते हैं, लेकिन आप परेशान नहीं होना। इंशाअल्लाह हम आपके साथ खड़े हैं। जो भी आपके साथ खड़े हैं, जो भी आपको चाहिए हमें कहें। इंशाअल्लाह हम खिदमत के लिए तैयार हैं। मुकम्मल आपके साथ हैं। अल्लाताला आपको बरकत दे। अल्लाताला जल्द मकसद हमारा हमें अता फरमाए। दुश्मन की साजिशें अल्लाताला नाकाम कर दें।    इस पर आतंकवादी बुरहान वानी कहता है- अब मसला ये है ना कि इस टाइम तहरीक को जो नया रोशन मिला है। वो पस्त हो गया है तो अल्हमदुलिल्लाह इस मौके को हमें गंवाना नहीं चाहिए। ये हमें जारी रखनी चाहिए और अटैकिंग पॉलिसी जारी रखनी चाहिए दुश्मन पर।  अगर थोड़ा-सा आपका साथ चाहिए बस। इंशाअल्लाह दुश्मन को हम यहां से जल्द बाहर निकालेंगे।   इस पर बुरहान वानी कहता है- जी, बस यही कहना था, मतलब जो लश्कर वाले हैं, उनका थोड़ा सामान है और जो पैसे हैं वो अगर कम हैं तो मैं सोच रहा था कि इसकी वजह क्या है? अगर उनका नेटवर्क थोड़ा लूज है, तो इंशाअल्लाह मैं इनकी मदद कर सकता हूं मेरे पास सोर्स है इतना।   हाफिज सईद बोलता है- ठीक है, ठीक है। इंशाअल्लाह हम काम करेंगे और आपसे मदद लेंगे और अल्लाताला से ये दुआ करते हैं अल्ला कबूल करें।