Gmail के नाम पर आपको भी हैकर बना सकते हैं निशाना, रहें बचकर

नई दिल्ली ( 19 जनवरी ): सिक्यॉरिटी के जानकारों ने एक ऐसे फिशिंग स्कैम का पता लगाया है, जिसकी मदद से हैकर्स ने बहुत से Gmail यूजर्स के यूजरनेम और पासवर्ड पता कर लिए हैं। जिस तरीके को हैकर इस्तेमाल कर रहे हैं, वह इतना इफेक्टिव है कि अनुभवी टेक्निकल यूजर्स भी गलती कर रहे हैं।

फिशिंग वह तरीका है, जिसमें हैकर्स किसी असली वेबसाइट की हू-ब-हू नकल तैयार कर देते हैं। यूजर्स असली और नकली का फर्क नहीं कर पाते और अपना यूजरनेम और पासवर्ड नकली वेबपेज में एंटर कर देते हैं। ऐसा करते ही यूजरनेम और पासवर्ड का ऐक्सेस हैकर्स को मिल जाता है और वे असली अकाउंट को हैक कर लेते हैं।

ब्लॉग वेबसाइट WordPress के लिए सिक्यॉरिटी टूल बनाने वाली टीम WordFence के रिसर्चर्स ने एक ब्लॉग पोस्ट के जरिए चेताया है कि इस फिशिंग स्कैम के जरिए बहुत सारे यूजर्स का जीमेल पासवर्ड हासिल करके उनका डेटा चुराया जा रहा है। ब्लॉग में लिखा गया है कि इस स्कैम को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि अनुभवी टेक्निकल यूजर्स भी फंस जा हे हैं।

क्या है हैकिंग का तरीका?

हैकर्स ट्रस्टेड कॉन्टैक्स के तौर पर टारगेट यूजर को ईमेल भेजते हैं। इस ईमेल के साथ एक अटैचमेंट लगा होता है, जो आमतौर पर पीडीएफ फाइल के तौर पर दिखता है। देखने में यह ईमेल एक सामान्य ईमेल की तरह दिखता है। मगर इसके साथ आया अटैचमेंट दरअसल एक एम्बेडेड इमेज है, जिसे ऐसे तैयार किया गया है कि पीडीएफ फाइल की तरह नजर आए।