25 साल की उम्र में कमाएं 2000 करोड़, अब हुई जेल

वॉशिंगटन (13 अगस्त): भारतीय मूल के गुरुबख्श चहल ने महज 25 साल की उम्र में अपना स्टार्टअप 300 करोड़ डॉलर (2007 करोड़ रुपए) में बेचने के बाद सुर्खियों में आए थे, लेकिन अब उन्हें डोमेस्टिक वॉयलेंस केस में सजा सुनाई गई है। हालांकि, उन्हें सजा के खिलाफ अपील की इजाजत दी गई है।

दो गर्लफ्रेंड्स से मारपीट के गंभीर आरोप...

- सैन फ्रांसिस्को कोर्ट की जज ट्रैसी ब्राउन ने 34 साल के चहल से कहा कि वे उनके फैसले को ऊपरी अदालत में चैलेंज कर सकते हैं। - ब्राउन ने ही पिछले महीने चहल को प्रोबेशन पीरियड के वॉयलेशन का दोषी करार दिया था। चहल को गर्लफ्रेंड को पीटने के आरोप में दो साल पहले दोषी पाया गया था। - प्रॉसिक्यूटर्स ने कहा- "सर्विलांस फुटेज से ये साफ हो जाता है कि चहल ने सैन फ्रांसिस्को के अपने पेंटहाउस में गर्लफ्रेंड को 100 से ज्यादा बार पीटा। तकिए से उनका गला दबाने की कोशिश की।"

- चहल ने अपील में आरोप कम करने की मांग की। उन्होंने कहा कि आरोप लगाने वाली महिला जांच में मदद नहीं कर रही है और जज ने गलत तरीके से हासिल किए गए सबूत के आधार पर उन्हें दोषी करार दिया है। चहल पर दो गर्लफ्रेंड्स से मारपीट और बदसलूकी के आरोप हैं।

कौन हैं चहल? - भारतीय मूल के चहल ने 2007 में अपनी डिजिटल एडवर्टाइजिंग कंपनी याहू 30 करोड़ डॉलर (2007 करोड़ रुपए) में बेची थी। - इसके बाद उन्हें अमेरिका के मशहूर ओप्रा विन्फ्रे शो में बतौर गेस्ट बुलाया गया था। इस शो में उन्हें अमेरिका के मोस्ट एलिजेबल बैचलर में से एक बताया गया था। - वो बराक ओबामा के करीबी माने जाते हैं और व्हाइट हाउस में उनसे कई बार मुलाकात कर चुके हैं। - उनका जन्म पंजाब के तरनतारन में हुआ था। तीन साल की उम्र में वो फैमिली के साथ यूएस चले गए थे। - चहल स्कूल ड्रॉप आउट हैं। 16 साल की उम्र में उन्होंने अपनी पहली कंपनी क्लिक वेंचर बनाने के लिए पढ़ाई छोड़ दी थी।

- उन्होंने ब्लू लिथियम और रेडियमवन कंपनी भी बनाईं। ये कंपनियां याहू ने खरीदीं। इसके बाद चहल ने ग्रेविटी-4 कंपनी बनाई। - जिन दो महिलाओं ने चहल पर मारपीट के आरोप लगाए थे, वो उनकी कंपनी में ही इम्प्लॉई रह चुकी हैं।