पठानकोट अटैक में शहीद हुए कमांडो के घर 8 महीने बाद जन्मी बेटी

अंबाला (14 अगस्त): 2 जनवरी को पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में शहीद हुए गुरसेवक सिंह के घर बेटी ने जन्म लिया है। सुबह आठ बजे नन्ही परी की किलकारी गूंजते ही परिवार में खुशियों का सैलाब आ गया, लेकिन इस बेटी के पिता गुरसेवक सिंह को खोने का गम भी आंखों से बह निकला।

गुरसेवक सिंह और जसप्रीत कौर दूल्हा-दुल्हन के जोड़े में। फाइल चित्रशहीद पति के प्यार की आखिरी निशानी को पाकर बेहद खुश है जसप्रीत कौर।

प्यार की आखिरी निशानी पाकर खुश है पत्नी... - पठानकोट अटैक में अंबाला जिले के गांव गरनाला के एयरफोर्स गरुड़ कमांडो गुरसेवक सिंह समेत 7 जवान शहीद हुए थे। - शहीद गुरसेवक की शहादत से महज डेढ़ महीना पहले 18 नवंबर 2015 को कुराली के रणधीर सिंह की बेटी जसप्रीत कौर से शादी हुई थी।

5 फरवरी को घर पर मनाना था पत्नी का जन्मदिन -जसप्रीत कौर ने बताया कि 5 फरवरी को उसका जन्मदिन था और इसे घर पर मनाने के लिए उसके पति गुरसेवक सिंह ने 13 जनवरी से 6 फरवरी तक छुट्‌टी की अर्जी लगाई थी। - 1 जनवरी की शाम को जसप्रीत कौर ने पति से बात करने के लिए फोन लगाया तो उन्होंने यह कहकर फोन काट दिया, ‘बाद में फोन करूंगा, और अगर फोन नहीं आया तो सो जाना’। - इसके बाद फोन नहीं आया, क्योंकि उसी रात को ही गुरसेवक सिंह देशसेवा के लिए न्यौछावर हो चुका था। - 2 जनवरी को भी पूरे परिवार को गुरसेवक सिंह की शहादत के बारे में पता नहीं था। - एक सप्ताह पहले ही मायके छोड़ी गई पत्नी जसप्रीत कौर ने अपना फेसबुक अकाउंट खोला तो गुरसेवक के एक दोस्त की पोस्ट से पता चला कि वह शहीद हो गए।