आरक्षण को लेकर फिर सड़कों पर उतरेंगे गुर्जर, 15 मई को रेल रोको आंदोलन का ऐलान

नई दिल्ली (7 मई): सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर एक फिर राजस्थान के गुर्जर आंदोलन की तैयारी है। ये चौथा मौका होगा जब ये लोग सरकारी नौकरी में आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन करेंगे। राजस्थान के भरतपुर में गुर्जर नेताओं की हुई बैठक के बाद गुर्जर संघर्ष समिति के प्रवक्ता हिम्मत सिंह ने कहा कि किरोडी सिंह बैंसला की अगुआई में गुर्जर समाज एकबार फिर आंदोलन की तैयारी में है। समाज के सभी नेताओं और लोगों को सरकार पर आरक्षण की मांग पर दबाव बनाने के लिए 15 मई को 'पीलू का पुरा' में आयोजित महापड़ाव में शामिल होने के लिए कहा गया है।वहीं गुर्जर नेता और गर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि सरकार गुर्जरों को सरकारी नौकरियों में मात्र 5 प्रतिशत आरक्षण देकर उनके साथ नाइंसाफी कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 5 फीसदी आरक्षण देने का वादा किया था, लेकिन उन्होंने इस बात को मजबूती से नहीं रखा यही वजह है कि बिल खारिज हो गया।15 मई से फिर रेल रोको आंदोलन का एलान किया है। इस बार आंदोलन भरतपुर के बयाना अड्डा गांव में होगा। यह गांव दिल्ली-मुंबई को जोड़ने वाले रेलवे ट्रैक के नजदीक है। वहीं इन लोगों ने ऐलान किया है कि 21 मई से राजस्थान के अलग- अलग शहरों जिसमें दोसा, सिकंदरा,कोठपुतली, अजमेर जालौर आदि शहरों में अपने आंदोलन की शुरुआत की जाएगी।