गुर्जर आरक्षण आंदोलन: महापंचायत पर सरकार सतर्क, भरतपुर में धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवा बंद

नई दिल्ली (मई): ओबीसी से पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर 15 मई से एक बार फिर गुर्जर समाज आंदोलन की तैयारी में है। भरतपुर में सोमवार को प्रस्तावित महापंचायत को आंदोलन की शुरुआत से जोड़कर देखा जा रहा है। यही वजह है कि इस महापंचायत को लेकर राज्य सरकार पहले से ही पूरी तरह सतर्क है।

पिछले आंदोलन से सबक लेते हुए रेलवे भी अलर्ट पर है। साथ ही पुलिस और प्रशासन को अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया गया है। भरतपुर जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद करने के साथ ही धारा 144 लागू कर दी गई है। उधर, सुरक्षा बंदोबस्त को मजबूत करते हुए अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।  

महापंचायत के लिए सोमवार को अड्डा गांव में ग्रामीणों ने खेतों को ठीक करके महापंचायत के लिए टैंट लगा दिए। वहीं मोरोली के टोंटा बाबा मंदिर पर भी महापंचायत को लेकर तैयारियां की गई। दोनों महापंचायतों के लिए प्रशासन से सशर्त अनुमति दी हैं। रेलवे पुलिस भी मुस्तैद है। आरपीएसएफ की एक कंपनी बुलाई गई है। स्टेशनों पर सुरक्षाकर्मी तैनात हैं।

गुर्जर आंदोलन के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के घर पर राजस्थान सरकार से बातचीत के लिए जाने से पहले बंद कमरे में दो घंटे मीटिंग हुई। सरकार से बातचीत के लिए संघर्ष समिति से जुडे 15 सदस्यों की कमेटी बनाई है। राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं से अलग-अलग बातचीत की जा रही है, ताकि सुरक्षा और कानून व्यवस्था बनी रहे।