गरमाया मोदी की डिग्री का मामला, रिटायर्ड प्रोफेसर ने बताई यह गड़बड़ी

नई दिल्ली (12 मई): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिग्री विवाद मामले में एक नया मोड सामने आ गया है। इस बार मामला गुजरात से उठा है। गुजरात विश्वविद्यालय के रिटायर्ड प्रो. जयंती लाल ने मोदी की डिग्री पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि एमए की डिग्री में जो विषय बताए गए हैं, वे विषय उस समय विश्वविद्यालय में पढ़ाए ही नहीं जाते थे।

पटेल ने दावा किया कि मोदी की गुजरात यूनिवर्सिटी की ओर से एमए की जो डिग्री जारी की गई, उसमें और रेगूलर मार्कशीट में फर्क है। यही नहीं एमए पार्ट द्वितीय में जो पेपर्स बताए गए हैं, उनके नाम में कुछ गड़बड़ है। पटेल ने कहा मुझे जहां तक याद है इंटरनल व एक्सटर्नल विद्यार्थियों के लिए इस विषय के पेपर्स नहीं हुआ करते थे।

पटेल ने दावा किया कि मोदी की कॉलेज में उपस्थिति बहुत कम रहती थी। कॉलेज में हर हफ्ते अलग-अलग विषयों पर पढ़ाई करवाई जाती थी, लेकिन मोदी बहुत कम इनमें शामिल हुआ करते थे। पटेल विश्वविद्यालय में 1969 से 1983 तक राजनीति शास्त्र के प्रो. के रूप में कार्यरत रहे। हालांकि गुजरात यूनिवर्सिटी आज भी अपनी बात पर कायम हैं। रजिस्ट्रार महेश पटेल ने कहा कि जो डिग्री जारी की गई है, वह एकदम सही है और यह 30 साल पुरानी है। इसमें विषय भी उसी समय के हैं।