गाय का शव उठाने से इंकार, प्रेग्नेंट दलित महिला को पीटा

नई दिल्ली(25 सितंबर): गुजरात में गाय को लेकर दलितों की पिटाई का एक और मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ लोगों ने मरी हुई गाय का शव उठाने से इंकार करने पर एक दलित परिवार की पिटाई की। जिस परिवार की पिटाई हुई उसमें एक प्रेग्नेंट महिला भी शामिल थी। 

- यह मामला शनिवार को सामने आया है। पुलिस ने इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया। यह मामला मोटा कार्जा गांव का है। जिन लोगों पर मारपीट और गाली देने का आरोप लगा वे प्रमुख सवर्ण समुदाय के बताए गए। 

- एफआईआर के मुताबिक, शुक्रवार (23 सितंबर) की रात कुछ लोग उस दलित परिवार के घर पहुंचे। उन्होंने एक मरी हुई गाय को उठाकर ले जाने के लिए कहा। पीड़ित परिवार के एक शख्स ने कहा कि वह सुबह आकर गाय को ले जाएगा। इसपर उन लोगों ने दलित के घर के अंदर घुसकर गाली देनी शुरू कर दी और फिर कुछ देर बाद वे लोग मारपीट भी करने लगे।

- FIR में आगे बताया गया कि उन लोगों ने प्रेग्नेंट महिला को भी नहीं छोड़ा। शिकायत में कहा गया कि उन लोगों ने प्रेग्नेंट महिला के पेट पर लात मारी थी। FIR में लिखवाया गया, ‘वे लोग हमारे घर में घुसे और जाति सूचक शब्द कहने लगे। इसके बाद उन लोगों ने हमें लाठियों से पीटा और जान से मारने की धमकी भी दी।’ 

- वहां के एसपी ने कहा, ‘हम लोगों ने FIR दर्ज करके 6 आरोपियों को पकड़ लिया है। उन लोगों पर आईपीसी की धारा 315 के साथ-साथ और भी कई धाराएं लगाई गई हैं।’ पुलिस ने बताया कि जख्मी लोगों को गांव के पास ही एक हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। उन लोगों को पुलिस की सुरक्षा भी दी गई है। आरोपियों की पहचान नटवर सिंह चौहान, मकनुसिंह चौहान, नरेंद्र सिंह चौहान, योगी सिंह चौहान, बाबर सिंह चौहान और दिलगर सिंह चौहान के रूप में हुई है।