पैसे के पीछे भागने वाले जरूर पढ़ें: पिता अफसर, बेटा टॉपर, सबुकछ छोड़ बना संन्यासी

नई दिल्ली (11 जून): आज के समय में दुनिया में हर कोई पैसे के पीछे भाग रहा है। जिसके पास हजार है, वो लाख कमाना चाहता है। जिसके पास लाख है, वो करोड़ कमाना चाहता है और जिसके पास करोड़ है, वो भी संतुष्‍ट नहीं। लेकिन ऐसे में एक खबर गुजरात से आई है, जहां पर पिता इनकम टैक्स में अधिकारी और बेटा गुजरात का टॉपर होने के बावजूद भौतिक संसार को त्याग कर एक संन्यासी बन गया।

गुजरात बोर्ड से 12वीं (साइंस) में 99.99 प्रतिशत लाकर टॉप करनेवाला विद्यार्थी वर्शील शाह संन्सायी बन गया। उसके इस निर्णय में उसके माता-पिता ने भी उसका साथ दिया। वर्शील के पिता जिगर शाह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में इंस्पेक्टर के पद पर कार्यरत हैं। एक सरकारी अफसर होने के बावजूद उनके घर में ना तो टीवी है और ना ही फ्रीज व एसी। परिवार जरूरत पड़ने पर ही बिजली का प्रयोग करता है। इसके पीछे उनकी राय है कि बिजली बनाने के लिए पानी का प्रयोग होता है और उससे कई जीवों की हत्या होती है। इसलिए वह कम से कम बिजली का यूज करते हैं।

गुजरात के सूरत शहर में तापी नदी के किनारे भव्य दीक्षा समारोह का आयोजन किया गया जिसमें कई जैन आचार्य, वर्शील का परिवार और जैन समुदाय के हजारों लोग शामिल हुए। मोह-माया का त्याग कर दीक्षा हासिल करने के बाद वर्शील का नाम भी बदल गया है और अब वह सुविर्यरत्न विजयजी महाराज बन गया है।

वर्शील की माने तो वो भी 12 वीं की परीक्षा में अच्छे अंक हांसिल कर औरों की तरह सीए बनाना चाहता था। लेकिन जैन संतों के प्रवचनों को सुन और उन्हें देखकर उसका मन बदल गया है। आख़िरकार उसने दीक्षा लेने का फैसला लिया।