धमकियों से तंग आकर गुजरात की बहादुर बेटी ने की आत्महत्या, पीएम मोदी से पा चुकी थी सम्मान

नई दिल्ली(27 अक्टूबर): एक तरफ पुरे देश में बेटी बचाओ और नारी शशक्तिकरण के नारे लग रहे हैं और दूसरी और बेटियों को आत्महत्या करनी पड़ रही है। गुजरात के एक छोटे से गांव की 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली एक बालिका ने गांव के भाजपा के एक कद्दावर नेता के रिश्तेदार लड़के से परेशान होकर आत्महत्या कर ली है।

- लड़की ने आत्महत्या से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा फिर भी पुलिस पॉलिटिकल दबाव के कारण ठोस करवाई करने से बच रही है।  

- गुजरात के जूनागढ़ के मेंदरडा तहसिल का समढियाला गांव जहां राधिका नामक लड़की ने आज से एक महीना पहले अपने घर में ही एसिड पी कर आत्महत्या करली थी।

-कारपेंटर का काम कर रहे दिनेशभाई कंसारा की बेटी के पीछे गांव का एक तनु राजाणी नाम का लड़का पड़ा था और बार बार राधिका के साथ छेड़छाड़ कर रहा था। तनु पूर्व भाजपा विधायक और संसदीय सचिव के रिश्तेदार का एक लड़का था इस लिए बार बार लड़की को धमकाया करता था, कि तू अगर मेरे वश में नहीं आई तो तुझे और तेरे पूरे परिवार को ख़त्म कर दूंगा।  कुछ समय तो राधिका ने यह सब बर्दाश्त किया मगर फिर वह हार गई और एसिड पीकर खुद को ख़त्म कर ली।  राधिका ने एक महीने पहले आत्महत्या की थी और सुसाइट नॉट में भी तनु राजाणी का नाम लिखा मगर पुलिस ने कोई करवाई नहीं की। पहले तो शिकायत भी नहीं दर्ज कर रहे थे मगर प्रजापति समाज ने इकठ्ठा होकर गुहार लगाई तो 10 दिनों के बाद रहरहकर शिकायत दर्ज की है मगर अभी तक आरोपी तनु को गिरफ्तार नहीं किया है और खुलेआम घूम रहा है।  

- राधिका होशियार और होनहार थी, इसीलिए 15 जून 2013 में तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जब समढियाला गांव में स्कूल प्रवेश उत्सव के लिए आये थे तब मोदी की हजारी में बेटी बचाओ और नारी शशक्तिकरण के ऊपर भाषण दिया था और मोदी ने खुश होकर राधिका का सन्मान भी किया था। मगर गुजरात की बिगड़ती कानून व्यवस्था के कारण वही राधिका उन बदमाशों के सामने हार गई और आत्महत्या कर ली। राधिका 12वीं  कक्षा में पढ़ रही थी और जीवन में कुछ करने कि चाह रखती थी।