#GujaratManthan: गुजरात में बीजेपी के जाल में फंस गई कांग्रेस- शंखर सिंह बघेला

अहमदाबाद (2 दिसंबर): गुजरात चुनाव के ठीक पहले जनता से जुड़े सवालों को नेताओं के सामने रखने और उनकी राय जानने के लिए न्यूज 24 ने आज अहमदाबाद में मंथन कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में कांग्रेस के बागी नेता और तीसरे मोर्चे का गठन करने वाले शंकर सिंह वाघेला भी मौजूद रहे। न्यूज 24 के इस महा आयोजन में शंकर सिंह वाघेला ने तमाम मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखा। लगे हाथों उन्होंने कांग्रेस और बीजेपी पर जमकर हमला किया।

शंखर सिंह बघेला ने हार्दिक पटेल और आरक्षण के मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी पर हमला भी किया। उन्होंने कहा कि चुनाव के ऐलान से पहले कांग्रेस की स्थिति अच्छी थी। लेकिन कांग्रेस बीजेपी के जाल में फंस गई।   

शंखर सिंह बघेला की बड़ी बातें... किसी ने बात नहीं मानी तो कांग्रेस छोड़नी पड़ी राजनीति में किसी पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करनी चाहिए राहुल और सोनिया से बात करने के बाद जो कुछ हुआ, उसके बाद पार्टी छोड़नी पड़ी मैंने कहा था कि सीएम नहीं बनना है। दिल्ली से पैसे भी नहीं चाहिए। 90 प्लस लाकर दूंगा, फिर भी नहीं माने जानकर बूझकर कांग्रेस विधायकों को बीजेपी की तरफ जाने दिया गया। पार्टी टू पार्टी मैच फिक्सिंग की गई बीजेपी की मेहरबानी से कांग्रेस को राज्यसभा जीतनी है तो हमारी वोट की क्या जरूरत जिस पार्टी के पास 15 विधायक ज्यादा है, उन्हें बेंगलुरु ले जाने की क्या जरूरत।  - मैंने कांग्रेस को बताया कि विधायक बीजेपी में जा रहे हैं तो मुझे दिल्ली से कहा गया कि जाने दीजिए जिसको सत्ता का लालच होता है, वह भारतीय जनसंघ में नहीं जाता मैं सीधा अगर बीजेपी में जाता तो मुझे कौन रोक सकता था मेरी बीजेपी से कोई डील नहीं हुई। अगर डील होती तो बीजेपी से मेरा बेटा चुनाव लड़ता  मैंने एक भी कैंडिडेट से एक पैसा नहीं लिया और 160 लोग हमारे पास आए   मैं सफल हूं या नहीं, लेकिन प्रयोग करना हमारी जरूरत है-  मैं सीधा अगर बीजेपी में जाता तो मुझे कौन रोक सकता था -  कांग्रेस के कई लोग 7 आरसीआर में गए, लेकिन मैं कभी नहीं गया। मोदी जी मेरे यहां पर शादी में आए थे, लेकिन उसके बाद कभी बात नहीं हुई  भीख मांगकर बीजेपी को सत्ता में बनाया। 100 डिग्री तापमान में मेहनत की और बीजेपी को यहां तक पहुंचाया मेरे घर अमित शाह कभी मिलने नहीं आए। वह मेरे ऑफिस में आए थे और सबके बीच मिले  मोदी से आ‍ज भी मधुर संबंध है, लेकिन हमारी बात नहीं होती -  अमित शाह से कोई प्राइवेट बात नहीं हुई। जब उसने मिला 25 लोग मेरे साथ थे बीजेपी के लोग बैलेंस बनाकर काम कर रहे हैं। बीजेपी के जाल में कांग्रेस फंसती जा रही है पैसे से नॉन इश्यू को इश्यू बनाया जा रहा है। राहुल गांधी हिंदु है या नहीं इसपर बहस क्यों होती वोट के लिए बीजेपी और कांग्रेस जो भी वादा करती है, लोग समझते है कि हमें बेवकूफ बनाया जा रहा है सभी धर्म के ठेकेदारों का हेडक्वाटर गुजरात में है 2017 में धर्म के आधार पर गुजरात में चुनाव नहीं होते, लेकिन कांग्रेस किसी ना किसी तरह से बीजेपी के जाल में फंस गई  पार्टी ब्रांड से चलती है। इंदिरा गांधी की वजह से देश में कांग्रेस जीतती थी कांग्रेस सिस्टम फेल पार्टी है। इनको जीतना नहीं है गुजरात की जीत या हार से राहुल गांधी के अध्यक्ष पद चुनाव को नहीं जोड़ना चाहिए। हम जितना गुजरात को जानते हैं, उतना बाहर का कोई नहीं जानता है इस समय बीजेपी का होमवर्क भी मजबूत नहीं है। अगर आप काम करते तो अपने कार्यकर्ताओं को टिकट देते, दूसरी पार्टी से आए लोगों को गले नहीं लगाते नोटबंदी को लेकर गुजराती दुखी है। प्रदेश में 90 फीसदी व्यापारी और 80 फीसदी पाटीदार दुखी है। अगर यह दोनों नहीं हिलते तो बीजेपी को कोई हरा नहीं सकता था कांग्रेस सिस्टम फेल पार्टी है। इनको जीतना नहीं है मैंने किसी पद के लालच में कांग्रेस नहीं छोड़ी लोगों को नौकरी, पेट्रोल-डीजल के दामों और दूसरे जनमानस मुद्दों को ध्यान में रखकर सपोर्ट लेंगे नोटबंदी को लेकर गुजराती दुखी है। प्रदेश में 90 फीसदी व्यापारी और 80 फीसदी पाटीदार दुखी है। अगर यह दोनों नहीं हिलते तो बीजेपी को कोई हरा नहीं सकता था