बड़ा खुलासा ! इस राज्य के कुछ खातों में जमा हुए 50,000000000 रुपये

अहमदाबाद (14 दिसंबर): 500 और 1000 के नोटों पर पाबंदी के बाद भारी तादाद में लोगों ने अपने-अपने बैंक खातों में पैसे जमा करवाए हैं। कई लोगों ने सरकार की ओर से तय 2.50 रुपये की रकम से कई सौ गुना ज्यादा पैसे अपने खातों में जमा करवाए हैं। अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर इन बैंक खातों पर है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तमाम ऐसे बैंक खातों की जांच में जुटी है, जिसमें ज्यादा रकम जमा हुई है।

इसी कड़ी में पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 5,000 से ज्यादा लोगों को नोटिस भेजा है जिन्होंने अपने-अपने खातों करोड़ों रुपये जमा करवाए हैं। यानी गुजरात में महज 5 हजार लोगों ने अपने खातों में 50 अरब से ज्याद रुपये जमा करवाए हैं। अकेले अहमदाबाद के 500 से ज्यादा लोगों में अपने-अपने खातों में एक करोड़ से ज्यादा रुपये जमा करवाए हैं।

जिन लोगों ने नोटबंदी के बाद से अपने खातों में एक करोड़ या उससे ज्यादा रुपये जमा किये हैं, उन्हें आयकर विभाग ने नोटिस भेजा है। बड़ी संख्या में आयकर विभाग के अधिकारियों को इन्वेस्टिगेशन के लिए ट्रांसफर किया है। आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक, 'इनकम टैक्स विभाग पहले से ही करोड़पतियों के आय के स्त्रोतों को जानने के लिए नोटिस भेज रहा है।' इस काम में बैंको से भी सहयोग करने के लिए कहा गया था।

जिन भी खातों में बड़ी रकम जमा की जा रही है, एक जनवरी के बाद बैंक उनकी डीटेल्स आयकर अधिकारियों से साझा करेंगे। हालांकि गुजरात में यह काम पहले से ही शुरू हो गया है। गुजरात कांग्रेस सीए सेल के अध्यक्ष सीए कैलाश गढ़वी ने बताया, 'नोटबंदी के बाद आयकर विभाग ने केवल राजकोट के ही 3,000 से भी ज्यादा करदाताओं को नोटिस भेजा है। अहमदाबाद, सूरत और वड़ोदरा का आंकड़ा 5,000 को पार कर सकता है।' नियम के मुताबिक जो भी व्यक्ति अपनी आय का स्त्रोत बताने में विफल होगा उस पर रकम का 85 प्रतिशत जुर्माना लगाया जाएगा।