गुजरात में बीजेपी नेता, पुलिसकर्मी और मनपा कर्मचारी ने कराया पेपर लीक


Photo: Google



न्यूज 24 ब्यूरो, भूपेंद्र सिंह, अहमदाबाद (3 दिसंबर):
गुजरात में लोकरक्षक परीक्षा का पर्चा लीक होने और उसके बाद मचे बवाल के बाद पुलिस तुरंत हरकात में आई और कार्रवाई करते हुए इस मामले में भाजपा नेता, पुलिस कर्मचारी, एक मनपा कर्मचारी की मिलीभगत को उजागर किया है। इस परीक्षा का पर्चा पांच-पांच लाख में बेचने का सौदा हुआ था।

रविवार दिनभर गुजरात भर से लोकरक्षक की परीक्षा देने आए परिक्षार्थियों के लिए परेशानी भरा रहा। दूर-दराज से मुसीबते उठाकर परीक्षा केंद्र पहुंचे परीक्षार्थी पेपर लीक और परीक्षा रद्द होने के बाद बिना परीक्षा दिए ही परेशां होकर लौटे, जिसके बाद परिक्षार्थियों सहित विपक्ष ने इस मामले  पर जमकर हंगामा किया। ऐसे में तमाम जांच एजेंसियां हरकत में आई और कुछ ही घंटो के भीतर पेपर लीक की तह तक पहुंच कर गिरफ्तारियां भी शुरू कर दी। सबसे पहले पुलिस उपाधिक्षक विरेन्द्र यादव ने खुद सेक्टर-7 में शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद इस प्रकरण में भाजपा के नेता मनहर पटेल, मुकेश चौधरी, पीएसआई  पीवी पटेल को गिरफ्तार कर लिया गया। गांधीनगर पुलिस के मुताबिक पर्चा लीक प्रकरण का मुख्य सूत्रधार वड़ोदरा मनपा के सेनटरी विभाग में कार्यरत यशपाल सोलंकी है। वह मनहर पटेल और मुकेश चौधरी के लगातार संपर्क में था। उसने ही यह प्रश्नपत्र दिल्ली से लीक किया था।

गांधीनगर पुलिस के मुताबिक वह लोकरक्षक परीक्षा का पर्चा लेकर 1 दिसंबर के दिन दिल्ली से वड़ोदरा आया था। उसने ही मनहर पटेल और मुकैश चौधरी को पर्चा दिया था और पांच-पांच लाख रुपये में बेचने की बात की थी। दोनों पर्चा बेचने के लिए परीक्षा वाले दिन गांधीनगर के श्रीराम होटल में ठहरे थे। होटल संचालिक रुपल शर्मा के साथ मिलकर परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों से पांच-पांच लाख रुपये में सौदे किए थे। वायरलेस पीएसआई पीवी पटेल ने भी अपने दो भांजों के लिए पर्चा खरीदा था। गांधीनगर पुलिस ने बताया कि इससे पहले भी टेट की परीक्षा का पर्चा लीक होने के मामले में मनहर पटेल का नाम आ चुका है। मनहर पटेल भाजपा की टिकट पर नगर पार्षद का चुनाव लड़ चुका है, जबकि मुकेश चौधरी बनासकांठा के एदरणा गांव के भाजपा का नेता है। इस प्रकरण में इन चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जबकि मुख्य सूत्रधार यशपाल सोलंकी अभी तक गिरफ्त से बाहर है। इसकी गिरफ्तारी के बाद पूरी सच्चाई सामने आएगी।

परीक्षा कराने वाली संस्था लोकरक्षक भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष विकास सहाय ने पेपर लीक होने की बात सामने आते ही कुछ घंटे पहले परीक्षा रद्द कर दी गई। गौरतलब है कि गुजरात सरकार की तरफ से पुलिस महकमे में लोकरक्षक दल के 9763 पदों पर भर्ती के लिए रविवार को लिखित परीक्षा होनी थी। इसमें 8 लाख 76 हजार 356 लोगों ने आवेदन किया था। अलआरडी भर्ती बोर्ड के अनुसार राज्य के 29 शहर व जिलों के 2440 स्कूलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इनमें 29200 कमरों में व्यवस्था की गई थी। सभी कमरों में सीसीटीवी लगाए गए थे।