जीएसटी के नाम पर आपको ऐसे चूना लगा रहे हैं दुकानदार

नई दिल्ली (19 सितंबर): मोदी सरकार ने 1 जुलाई को संसद भवन के सेंट्रल हाल में जीएसटी लॉन्च किया था। जिसके बाद लोगों को कुछ चीजों के दाम ज्यादा और कुछ के कम देने पड़ रहे हैं। लेकिन अभी भी दुकानदार जीएसटी के नाम पर लोगों को जमकर चूना लगा रहे हैं।

मोदी सरकार ने हाल ही में बताया कि अभी भी कुछ दुकानदारों ने खुद को जीएसटी से नहीं जोड़ा है, जबकि ऐसे दुकानदार लोगों से जीएसटी का पैसा भी ले रहे हैं। ऐसे में लोगों को चाहिए कि अगर कोई भी दुकानदार आपसे जीएसटी के रूप में पैसा लेता है तो उससे पक्का बिल जरूर लें। हालांकि ऐसा नहीं कि पक्का बिल देने वाला दुकानदार जीएसटी भर रहा हो, ऐसे में आपको उस बिल पर उसका जीएसटी नंबर भी देखना चाहिए।

अभी भी देश में बहुत क‍म लोगों को पता होगा कि सरकार ने टिन नंबर की जगह जीएसटी को कर दिया है। यही नहीं जीएसटी 15 अंकों का होता है और दुकानदार से मिलने वाले पक्के बिल पर यह छपा भी होना चाहिए। अगर पक्के बिल में दुकानदार अपना जीएसटी नंबर अंकित नहीं करता है तो ऐसे में आप उसे जीएसटी का पैसा ना दें और उसकी शिकायत भी कर सकते हैं।

इसके अलावा कुछ दुकानदार ब्रॉडिड चीजों पर भी अलग से जीएसटी लेकर लोगों को चूना लगाने में लगे हुए हैं। उदाहरण के लिए जब भी आप कोई सामान खरीदने जाते हैं तो उसपर जो टैग होता है, उसमें साफ-साफ लिखा होता है कि इसकी कीमत सभी टैक्स लेने के बाद तय की गई है। ऐसे में अगर दुकानदार आपसे टैग पर लिखी कीमत के बाद भी जीएसटी लेता है तो समझें वह आपको चूना लगा रहा है।