घर खरीदने वालों के लिए आने वाले हैं अच्छे दिन!

नई दिल्ली(4 सितंबर): संसद के बाद देश के 16 राज्यों की विधानसभाएं भी जीएसटी को पास कर चुकी हैं। अगले साल से जीएसटी लागू हो जाएगा। रियल एस्टेट सेक्टर्स को भी जीएसटी से काफी उम्मीदें है। जानकारों का कहना है कि जीएसटी रियल्ट सेक्टर के लिए फायदेमंद साबित होगा और इसके लागू होने के बाद मकानों की कीमतें कम होंगी।

- प्रॉपर्टी एक्सपर्ट्स और रियल एस्टेट से जुड़े लोगों का मानना है कि जीएसटी बिल्डर्स और डेवलपर्स के साथ-साथ बायर्स के लिए भी फायदेमंद होगा।

- अन्य सेक्टर्स की तरह मौजूदा वक्त में रियल एस्टेट सेक्टर को भी अन्य सेक्टर्स की तरह कई तरह के टैक्स का बोझ झेलना पड़ता है। 

-जानकारों का कहना है कि 

- ज़मीन के मूल्य से जुड़े लेन-देन पर कोई एक स्पष्ट कर नहीं है 

- कर की स्पष्टता नहीं होने से भ्रम की स्थिति होती है 

- दोहरे कर के रुप में खामियाज़ा उठाना पड़ता है

- जीएसटी से एक स्पष्ट और पारदर्शी कर प्रणाली होगी

- जानकारों का कहना है कि आज रियल्टी सेक्टर में अलग-अलग चरणों में कई तरह के टैक्स चुकाने पड़ते हैं। नींव रखने से लेकर बिल्डिंग के तैयार होने तक पूरी प्रक्रिया में अलग-अलग टैक्स प्रोसेस से गुज़रना पड़ता है। 

-कच्चे माल पर वैट देना पड़ता

-अलग-अलग राज्यों में वैट अलग-अलग है

-सर्विस टैक्स चुकाना होता है

-सीएसटी अदा करना होता है

-माल के ढुलाई के लिए अलग-अलग राज्यों के नाकों पर चुंगी देनी पड़ती है

- बिल्डर्स और डेवलपर्स का कहना है जीएसटी से ये सब ख़त्म हो जाएगा। पूरे देश में एक जैसा टैक्स लगेगा....इससे बिल्डर्स को भी फायदा होगा और बायर्स भी फायदे में रहेंगे।

- जीएसटी से केवल इतना फायदा नहीं होगा कि इसके ज़रिए कराधान की प्रक्रिया सरल और पारदर्शी प्रणाली मिलेगी। माना जा रहा है कि जीएसटी से घरों के दाम भी कम होंगे। यानी बायर्स के लिए सस्ते घरों का दरवाजा खुलेगा..ये कैसे होगा इसे जानने के लिए एक फ्लैट की कीमत तय करने का गणित समझना ज़रुरी है.।

देखें वीडियो...

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=spXtMgzH1Bk[/embed]