GST: 70 साल बाद नेहरू के इस एतिहासिक पल की याद दिलाएगी मोदी सरकार

नई दिल्ली (29 जून): एक जुलाई से देशभर में जीएसटी लागू हो जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार 30 जून की आधी रात को संसद के उसी सेंट्रल हाल में जीएसटी का शुभारंभ कार्यक्रम करेगी, जहां पर 70 साल पहले 14 अगस्त 1947 को रात 12 बजे तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने आजादी का आगाज करते हुए अपना ऐतिहासिक भाषण ‘नियति के साथ मिलन’ दिया था।


संसद भवन के सेंट्रल हॉल से 30 जून रात 11-12.10 तक चलने वाले ख़ास कार्यक्रम से देश के सबसे बड़े कर सुधार जीएसटी का आगाज़ होगा। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे। हालांकि कांग्रेस ने इस कार्यक्रम से खुद को अलग करने की घोषणा कर दी है। संसद के सेंट्रल हाल में पहले इस तरह आधी रात को एक कार्यक्रम आजादी की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर हुआ था। 


इस ऐलान के बाद पुरानी और जटिल कर प्रक्रियाओं को आसान कर लागू किया जाएगा और 1 जुलाई की सुबह पूरा देश, 'एक देश एक टैक्स एक मार्केट' में तब्दील हो जाएगा। हालांकि इन दोनों वाकयों में समानता यह है कि एक बार फिर संसद भवन एक और आज़ादी का गवाह बनेगा, लेकिन यह आज़ादी होगी सिस्टम की पुरानी व्यवस्था से निकल एक नई व्यवस्था की ओर बढ़ने की।


14 अगस्त 1947, आधी रात 12 बजे पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू गांधी की इस स्पीच ने देश को उस आज़ादी का अहसास कराया जिसके इंतज़ार में सालों का संघर्ष था। उसके बाद आज तक आज़ादी के 70 सालों में अब ऐसा पहली बार होगा जब देश आर्थिक आज़ादी की दिशा में एक नई व्यवस्था की ओर बढ़ेगा।