खुशखबरी: GST से आएगी नौकरियों की बहार

नई दिल्ली (1 जुलाई): 'वस्तु एवं सेवा कर' (जीएसटी) 1 जुलाई पूरे देश में लागू हो गया। जीएसटी के लागू होने के साथ वैट, सेवा कर और केंद्रीय उत्पाद शुल्क जैसे केंद्र और राज्यों के दर्जनभर से अधिक टैक्स खत्म हो गए हैं। जम्मू-कश्मीर को छोड़कर देशभर में समान कर प्रणाली लागू कर दी गई है।


एक राष्ट्र, एक कर, एक बाजार वाली इस नई कर व्यवस्था को  लेकर लोगों में काफी उत्सुकता बनी हुई है। इस बीच युवाओं के लिए खुशखबरी यह है कि जीएसटी लागू होने से उनके लिए रोजगार के नए अवसर खुलेंगे और नौकरियों की बहार आएगी।

 

केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि जीएसटी लागू होने से विभिन्न क्षेत्रों में भर्तियों में 11 प्रतिशत की वृद्धि होगी क्योंकि यह व्यवस्था एकीकृत राष्ट्रीय बाजार सृजित करेगा जिससे घरेलू मांग को प्रोत्साहन मिलेगा तथा नौकरियां सृजित होंगी।

 

रूडी ने कहा कि भारत जीएसटी लागू होने के साथ ही आर्थिक क्रांति की दहलीज पर खड़ा है। उन्होंने कहा कि इस कर सुधार से अर्थव्यवस्था में विभिन्न क्षेत्रों में पेशेवरों की मांग तेज होगी क्योंकि मझौली और छोटी कंपनियां समान गतिविधियां तीसरी पार्टी अकाउंट कंपनियों को सौंप सकती हैं।'

 

कौशल एवं विकास मंत्रालय ने अपनी महत्वपूर्ण प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत जीएसटी के पेशेवरों के प्रमाणन के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम की घोषणा की ताकि देश आसानी से नई कर व्यवस्था में कदम रख सके।

 

रूडी ने एक बयान में कहा, 'हम यह जानकर भी खुश हैं कि शिक्षा एवं कौशल विकास सेवाओं जैसे अहम विषयों को जीएसटी से छूट प्रदान किया गया है जैसा कि जीएसटी परिषद ने फैसला किया है।