सेवाओं पर जीएसटी तय, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा कर मुक्त

नई दिल्ली ( 19 मई ): शुक्रवार को सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी की दरें तय कर दी गर्ई हैं। जीएसटी कांउसिल ने दो दिवसीय बैठक के दूसरे दिन सर्विस पर जीएसटी की दरें तय कर दीं। सर्विसेज पर जीएसटी की सभी 4 दरें 5%, 12%, 18%, 28% लागू करने का फैसला किया गया है। कुछ सेवाओं को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। इनमें मुख्य रूप से शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं हैं। ट्रांसपोर्ट को जरूरी सेवा मानते हुए उस पर 5 फीसदी की दर तय की गई है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि ट्रांसपोर्ट सर्विस पर 5% टैक्स लगाया जाएगा तो लग्जरी सेवाओं पर 28 फीसदी टैक्स लगाया जाएगा।

-हेल्थकेयर और एजुकेशन को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है।

-एंटरटेनमेंट टैक्स का सर्विस टैक्स में विलय कर दिया गया है।

-गुड्स, रेलवे और एयर ट्रांसपोर्ट पर 5% टैक्स लगेगा।

-सिनेमा हॉल्स, सट्टेबाजी, रेसकोर्स पर 28% टैक्स लगेगा। सिनेमा हॉल के लिए प्रस्तावित टैक्स दरें मौजूदा दरों की तुलना में 40 से 55 प्रतिशत तक कम है। इससे जहां सिनेमा टिकटें सस्ती हो सकती हैं और उन पर शुल्क लगाने का अधिकार राज्यों के पास ही रहेगा।

-फोन बिल पर 18% चार्ज लगेगा।

-1000 से कम किराये वाले होटल्स जीएसटी के दायरे से बाहर होंगे।

-2500-5000 किराये वाले होटल्स 18% टैक्स के दायरे में।

-5000 से ऊपर के किराए वाले 5 स्टार होटल्स पर 28% टैक्स।

-नॉन एसी रेस्टोरेंट पर 12 फीसदी सर्विस टैक्स लगेगा।

-1000-2500 वाले होटल्स पर 12 टैक्स ।

.सोने के स्लैब पर 3 जून को विचार होगा।

.ओला-ऊबर जैसी ऐप बेस्ड टैक्सी सर्विस पर 5% टैक्स लगेगा।

- इकॉनमी क्लास में हवाई यात्रा पर 5% और बिजनस क्लास पर 12% जीएसटी लगेगा।-मेट्रो, लोकल ट्रेन में सफर और धार्मिक यात्राओं को जीएसटी से छूट मिलेगी।

-सामान्य श्रेणी या नॉन एसी रेल यात्रा को जीएसटी से छूट दी गई है, जबकि एसी टिकटों पर 5% शुल्क लगेगा-सफेदी (पुताई) जैसे ठेके पर किए जाने वाले काम पर 12% जीएसटी लगेगा।- ई-कॉमर्स कंपनियों को आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान करते समय एक प्रतिशत टीसीएस कटौती करनी होगी।- लॉटरी पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।