जेटली ने GST को बताया क्रांतिकारी, बोले- अब पूरे देश में होगी एक टैक्स प्रणाली


नई दिल्ली (29 मार्च): GST कानून को एक बड़े आर्थिक बदलाव के ओर कदम बताया जा रहा है। लंबी बहस के बाद आज लोकसभा से GST बिल पास हो गया। अब इसे राज्यसभा में पेश किया जाएगा। सरकार इसे 1 जुलाई से देशभर में लागू करना चाहती है। इससे पहले केन्द्र सरकार ने जल्द से जल्द जीएसटी लागू करने कि लिए अहम चार विधेयक संसद में पेश किए। बुधवार को लंबी बहस के बाद लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने GST के पास होने की घोषणा कर दी।


लोकसभा में GST पर बहस में हिस्सा लेते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसे क्रांतिकारी बताया। उन्होंने कहा कि अब पूरे देश में एक टैक्स प्रणाली होगी। अभी तक कुछ टैक्स लगाने का अधिकार केंद्र और कुछ टैक्स लगाने का अधिकार राज्यों को था। GST के लागू होने से देश भर में एक इकोनॉमिक रेट होगा। टैक्स से जुड़े मुद्दे मनी बिल का हिस्सा होते हैं। राज्य और केंद्र मिलकर सामान और सेवाओं में टैक्स लगाएंगे। इससे देश भर में वस्तुओं के दाम कम होंगे।


वित्तमंत्री ने कहा कि GST से आम लोंगो पर अतिरिक्त बोझ नहीं डाला जा रहा है। साथ ही सेहत पर बुरा खराब असर डालने वाले सामानों और लग्जरी प्रोड्क्स पर ज्यादा टैक्स लगाया गया है।


आपको बता दें कि GST में मल्टीपल टैक्सेशन स्लैब का प्रवाधान किया गया है। खाने-पीने की चीजें 0 फीसदी टैक्स स्लैब में आएंगी। दूसरा टैक्स स्लैब 5 फीसदी का होगा वहीं तीसरा स्लैब 12-18 फीसदी का होगा जबकि 28 फीसदी अधिकतम टैक्स स्लैब होगा। लग्जरी स्लैब में तंबाकू, महंगी गाड़ियां आएंगी। लग्जरी स्लैब के 2 हिस्से होंगे, सेस+टैक्स। लग्जरी/तंबाकू उत्पादों पर 28 फीसदी के साथ सेस भी लगेगा।