844 फ्लैट की परमिशन लेकर सुपरटेक ने बना डाले 1907, 1063 फ्लैट सील

नोएडा (27 अप्रैल): यूपी में बिल्डरों की मनमानी से खरीददार परेशान हो चुके हैं। कहीं फ्लैट्स का आवंटन रद्द कर दिया गया तो कहीं कई फ्लैट्स को सील कर दिया गया है। लोगों के घर के अंदर से सामान निकालने तक का मौका नहीं मिला है। बिल्डर्स पर अथॉरिटी से लेकर कोर्ट तक का चाबुक चला तो बिल्डर्स ने बायर्स पर अपना गुस्सा उतार दिया।


ग्रेटर नोएडा के सुपरटेक बिल्डर के जार सोसायटी प्राजेक्ट में अथॉरिटी ने सिर्फ 844 फ्लैट की परमिशन दी थी, लेकिन बिल्डर पर 1907 फ्लैट बनाने का आरोप है। बायर्स की याचिका पर हाई कोर्ट ने 1063 फ्लैट सील करने का आदेश दे दिया। इन तमाम फ्लैटों में लोग रह रहे थे। फ्लैट सील होने से लोग परेशान हैं, क्योंकि इनमें उनका समान भी सील हो गया है। सोसायटी में रहने वाले कुछ लोगों को अंदाजा नहीं था कि जब वे ऑफिस से लौटेंगे तो उन्हें अपने घरों पर सील लगी मिलेगी।


लोगों का दावा है कि उन्होंने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के अफसरों से थोड़ी देर के लिए ही सही, सील खोलने की गुहार लगाई ताकि जरूरत का सामान निकाल सकें। इस पूरे मामले में जहां बिल्डर की जालसाजी सामने आई है, वहीं ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी भी सवालों के घेरे में आ गया है।


यूपी में बिल्डरों की मनमानी को देखते हुए न्यूज 24 ने इन बिल्डर्स के खिलाफ योगी जी घर दिला दो के नाम से मुहिम छेड़ रखी है। न्यूज 24 की मुहिम के बाद फ्लैट खरीदारों के अच्छे दिन आने वाले हैं। फ्लैट खरीदारों का संगठन नेफोवा का प्रतिनिधि मंडल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करेगा और बिल्डर्स की मनमानी की जानकारी सीएम को देगा। ये मुलाकात नोएडा के विधायक पंकज सिंह की अगुवाई में होगी। पंकज सिंह ने न्यूज 24 की मुहिम के बाद मुख्यमंत्री योगी को फ्लैट खरीदारों की समस्याओं से अवगत कराया था, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने मुलाकात का समय दिया है।