गर्मी के कहर से सहमा पाक, कराची में एडवांस में खोदी जा रहीं हैं कब्रें

नई दिल्ली (22 मई): गर्मी के भीषण प्रकोप से केवल भारत ही परेशान नहीं है। बल्कि पड़ोसी देश पाकिस्तान की हालत भी काफी खराब हो रही है। कराची में इन दिनों सामूहिक कब्रें खोदी जा रही हैं। भीषण गर्मी से होने वाली मौतों के बाद शवों को दफनाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

'द डॉन' की रिपोर्ट के मुताबिक, अभी गर्मी और लू से कम ही लोग मारे गए हैं, लेकिन यहां कब्रों की तैयारी पहले से ही की जा रही है। पिछले साल गर्मी में पाकिस्तान 1,300 लोगों की मौत हुई थी। फिलहाल पंजाब प्रांत में लू से अब तक 20 लोग मारे जा चुके हैं। 

गर्मी की मार के बीच सामूहिक कब्रें खोदने वाले लोग खुद इसके पीड़ित होते जा रहे हैं। इस काम को अंजाम देने वालों में कराची के शाहिद बलोच भी शामिल हैं। गर्मी ज्यादा बढ़े, इससे पहले वो अपने तीन भाइयों के साथ मिलकर ज्यादा से ज्यादा कब्रें खोद लेना चाहते हैं। 28 साल के शाहिद इन दिनों ईदी फाउंडेशन के कब्रिस्तान में यह काम कर रहे हैं। पिछले साल वे भी लू का शिकार हो गए थे। तब उन्हें एक दूसरे शख्स की मदद से 300 शवों के लिए कब्र खोदी थी। उनके मुताबिक, इस बार वे पहले से ज्यादा तैयार हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, 2 करोड़ की आबादी वाले कराची शहर में पिछली गर्मियों में सैकड़ों लाशें इकट्ठा हो गई थीं। तब इन्हें दफनाने की जगह कम पड़ गई थी। 2015 की गर्मियों में मारे जाने वाले लोगों में ड्रग एडिक्ट्स, मजदूरों और बुजुर्गों की संख्या ज्यादा थी। 2015 में यहां का तापमान 44 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा पहुंचा था।

हालांकि, मौसम विभाग के मुताबिक इस साल तापमान इतना ज्यादा नहीं पहुंचेगा। लेकिन, प्रशासन इसके लिए पहले से ही तैयारी कर रहा है। कराची कमिश्नर आसिफ हैदर शाह ने बताया कि शहर के 60 हॉस्पिटलों में लू के मरीजों के लिए 1850 एक्स्ट्रा बेड लगाए गए हैं। पिछले साल लू में मारे गए सैकड़ों लोगों के शवों को दफनाने के लिए जगह की कमी पड़ गई थी। ईदी फाउंडेशन को करीब 650 शवों को कुछ दिन तक खुले में रखना पड़ा था।